छोड़कर सामग्री पर जाएँ

दिलीप कुमार का स्वेटर धर्मेन्द्र ने कभी नही किया वापस

टैग्स:
इस ख़बर को शेयर करें:

धर्मेंद्र जी ने बीबीसी हिंदी के साथ बातचीत में बताया है, “जब मुंबई अभिनेता बनने आया तब मेरी एक ही इच्छा थी कि दिलीप साहब से एक मुलाक़ात हो जाए. तब एलपी राव एक संपादक थे. एक दिन किसी जगह पर उन्होंने मुझे कहा कि तुम्हें पता है ये जो महिला यहाँ खड़ी हैं वो कौन है? मैंने पूछा कौन हैं? तब उन्होंने बताया कि ये दिलीप साहब की बहन हैं. इनका नाम फ़रीदा है.”

“ये सुनने के बाद मुझे लगा कि मैं कब इनसे कहूँ कि मुझे दिलीप साहब से एक बार मिला दें. मैं अपनी हिचक मिटाते हुए उनके पास गया और कहा कि मैं दिलीप साहब का बहुत बड़ा प्रशंसक हूँ. मुझे बस एक बार उनसे मिला दीजिए. तब उन्होंने मुझसे कहा कि कल शाम 8.30 बजे आ जाइए.”

“अगले दिन मुझसे इंतज़ार ही नहीं हो रहा था. मुझे लग रहा था कि ये शाम कब होगी? कब मैं उनसे मुलाक़ात करूँगा. ये 1960 की बात है. शाम को उनके घर गया. उन दिनों शाम को मुंबई के पाली हिल इलाके में ठंड हो जाया करती थी. जल्दबाज़ी और मिलने की ख़ुशी में मैं स्वेटर पहनना भूल गया था. मिलने के बाद उन्होंने मुझे अपना एक स्वेटर लाकर दिया और कहा ये पहन लो.”

“मैंने पहना और कहा मैं आपको ये स्वेटर कभी वापस नहीं दूंगा. उन्होंने ये सुनने के बाद कहा ज़रूर रख लो इसे. इसके बाद तो फिर वो ईद हो या उनका जन्मदिन हो मैं उनके घर अक्सर जाया करता था.”

ज्यादा पसंद की गई खबरें:

फिल्म ‘चाइनागेट’ का डाकू जगीरा - मुकेश तिवारी
भारतीय सिनेमा में एक ऐसा नाम जिसे विलक्षण अभिनेता और स्टंटमैन के रूप में याद किया जाता है- मुद्दू बा...
डिप्रेशन के चलते राज किरण फिल्म इंडस्ट्री से यूं गायब हुये कि परिवार को भी नही है उनकी खबर
राजकपूर के साथ कार में बैठे जयकिशन मुड़-मुड़कर देख रहे थे सुंदर हसीना, शैलेन्द्र ने लिख दिया हिट गान...
ललिता पवार हिन्दी फिल्मों की एक पॉपुलर अदाकारा नारी चरित्रों की निभाई कई भूमिकायें
शशि कपूर जैसा ख़ूबसूरत अभिनेता उस दौर में भारतीय फ़िल्म जगत में नहीं था
फिल्मी दुनिया में एक मुकाम बनाने के इरादे से सतीश कौशिक का सफर
फिल्म 'आग ही आग' की कुछ अनकही और अनसुनी बातें
गणेश मुखी रूद्राक्ष पहने हुए व्यक्ति को मिलती है सभी क्षेत्रों में सफलता एलियन के कंकालों पर मैक्सिको के डॉक्टरों ने किया ये दावा सुबह खाली पेट अमृत है कच्चा लहसुन का सेवन श्रीनगर का ट्यूलिप गार्डन वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में हुआ दर्ज महिला आरक्षण का श्रेय लेने की भाजपा और कांग्रेस में मची होड़