विश्व आदिवासी दिवस : आदिवासी संस्कृति, भाषा, त्यौहार, पूजा पद्धति बताती है कुशल आपदा प्रबंधन, सुरक्षा, एवं विकास

शेयर करें:

आदर्श योग आध्यात्मिक केंद्र स्वर्ण जयंती पार्क कोलार रोड़ भोपाल के संचालक योग गुरु महेश अग्रवाल ने बताया कि विश्व आदिवासी दिवस आदिवासियों के मूलभूत अधिकारों की सामाजिक, आर्थिक और न्यायिक सुरक्षा के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अगस्त को मनाया जाता है। पहली बार आदिवासी या मूलनिवासी दिवस 9 अगस्त 1994 को जेनेवा में मनाया गया।

आदिवासी शब्द दो शब्दों ‘आदि’ और ‘वासी’ से मिल कर बना है और इसका अर्थ मूल निवासी होता है। पुरातन संस्कृत ग्रंथों में आदिवासियों को अत्विका’ नाम से संबोधित किया गया एवं भारतीय संविधान में आदिवासियों के लिए अनुसूचित जनजाति पद का उपयोग किया गया है।

किसी भी समुदाय को अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में शामिल करने के निम्न आधार हैं- आदिम लक्षण, विशिष्ट संस्कृति, भौगोलिक पृथक्करण, समाज के एक बड़े भाग से संपर्क में संकोच या पिछड़ापन । आदिवासियों की देशज ज्ञान परंपरा काफी समृद्ध है।

किसी भी जाति की पहचान समाज में उसके विशिष्ट कार्यों से होती है, कार्य ही व्यक्ति, जाति, जनजाति को समाज में प्रतिष्ठा प्रदान करता है। सोने का काम करने वाला सोनार, लोहे का कार्य करने वाला लोहार, मछली पकड़ने वाला मछुवारा नाव चलाने वाला नाविक आदि इसके कार्यों से इनकी पहचान है। आदिवासी सबसे ज्यादा मेहनती, वनस्पति की विभिन्न जड़ी बूटियों की कुशल जानकारी रखने वाला उन जड़ी बूटी की पहचान कर घने जंगलों से तोड़कर लाने वाला है |

योग गुरु अग्रवाल ने बताया क्या योग दुनिया की गरीबी की समस्या का समाधान कर सकता है? अगर हर आदमी गरीबी चाहने लगे तो संसार स्वर्ग बन जायेगा। लेकिन यहाँ तो हर कोई अमीर बनने की कोशिश में जी-जान से लगा हुआ है। सभी कालों में, सभी देशों के सन्तों ने कहा है कि सच्चे व्यक्ति का जीवन आत्म स्वीकृत गरीबी से भरा जीवन होना चाहिये। वस्तुतः निर्धनता शब्द को सरलता में बदल देना चाहिये। जीवन में सरलता का मतलब हुआ- अपनी न्यूनतम आवश्यकताओं और सीमित सुविधाओं के हिसाब से जीवन निर्वाह करना।

अपनी भौतिक जरूरतों को बढ़ाते ही हम अपने आध्यात्मिक और सामाजिक जीवन स्तर में अनेक जटिलताएँ पैदा कर लेते है । कहा गया है कि एक ऊँट का सुई के छेद से निकल जाना आसान है, लेकिन एक धनवान आदमी का स्वर्ग के राज्य में प्रवेश पाना कठिन है।

व्यक्ति जब धनवान बन जाता है तब उसका दिमाग निष्क्रिय हो जाता है। दौलत इंसान के लिये अफीम है। इसलिये सीमित आवश्यकताओं में जिन्दगी बिताने की भरपूर कोशिश करनी चाहिये। आजकल अधिकतर देश गरीबी दूर करने का कठिन प्रयत्न कर रहे हैं। वे अपनी जनता का जीवन-स्तर ऊपर उठाने में लगे हैं। लेकिन सारी प्रक्रिया को उलट देना चाहिये, वापस चलो- गरीबी, सरलता और प्राकृतिक जीवन की ओर।

विश्व आदिवासी दिवस कब मनाया जाता हैं ? | When is world tribal day celebrated ?
विश्व आदिवासी दिवस कब मनाया जाता है ? इसका जवाब आपको हम बता देते हैं की पुरे विश्व में 9 अगस्त को एक साथ विश्व आदिवासी दिवस मनाया हैं। इस साल यह सोमवार 9 अगस्त 2021 को पुरे विश्व में एक साथ विश्व आदिवासी दिवस मनाया जायेगा।

विश्व आदिवासी दिवस कब लागू हुआ ? | When did World Tribal Day come into force?
सबसे पहले आदिवासी दिवस सबसे पहले संयुक्त राज्य अमेरिका में 1982 में मनाया गया था। इस दिन से ही विश्व आदिवासी दिवस की शुरुआत हुई थी।

विश्व आदिवासी दिवस से जुड़े तथ्य | Facts related to world tribak day
आदिवासी शब्द दो शब्दों से मिलकर बना हैं “आदि” और “वासी” जिसका अर्थ होता हैं निवासी।
भारत में तक़रीबन 8 प्रतिशत जनसँख्या आदिवासी हैं। 8 प्रतिशत यानी करीब 10 करोड़।
भारतीय संविधान में आदिवासी जाति के लिए अनुसूचित जनजाति शब्द न इस्तेमाल किया गया।
भारत की आदिवासी जातियों में जाट, गोंड, मुंडा, खड़िया, हो, बोडो, भील, खासी, सहरिया, संथाल, मीणा, उरांव, परधान, बिरहोर, पारधी, आंध,टोकरे कोली, महादेव कोली,मल्हार कोली, टाकणकार आदि जातिया शामिल हैं।