शिवराज सरकार ने दी किसानों को धर्म-काँटे की तौल को मान्यता

शेयर करें:

भोपाल। प्रदेश की शिवराज सरकार ने रबी उपार्जन में धर्म-काँटे की तौल को मान्यता दे दी है। इसके लिए धर्म-काँटों पर वे-ब्रिज प्रभारी अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। इतना ही नही खरीदी केन्द्र पर अस्थाई भंडारण से 50 किलोग्राम से बोरे को इलेक्ट्रिक काँटे से तौलकर तैयार किया जाएगा।इसके पहले कैबिनेट में शिवराज सरकार ने किसानों को लेकर कई अहम फैसले लिए थे।

प्रबंध संचालक स्टेट सिविल सप्लाईज कॉर्पोशन अभिजीत अग्रवाल ने कहा है कि इस वर्ष रबी उपार्जन में धर्म-काँटे की तौल को ही मान्यता दी गई है। उपार्जन केन्द्रों पर खरीदी के दौरान तौल की शिकायतों के शत-प्रतिशत निराकरण के लिए धर्म-काँटे की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। रबी उपार्जन प्रक्रिया में तौल प्रक्रिया को फुलप्रूफ बनाया गया है। परिवहन के पूर्व उपार्जन केन्द्र के करीब के पूर्व से चिन्हांकित धर्म-काँटे पर खाली ट्रक का वजन कराया जाएगा। इसके लिए धर्म-काँटों पर वे-ब्रिज प्रभारी अधिकारियों की नियुक्ति की गई है।

खरीदी केन्द्र पर अस्थाई भंडारण से 50 किलोग्राम से बोरे को इलेक्ट्रिक काँटे से तौलकर तैयार किया जाएगा। गोदाम पर ले जाने से पूर्व परिवहनकर्ता के प्रतिनिधि के सामने सैंपल के तौर पर कुछ बोरे तौल कर परिवहनकर्ता के सुपुर्द किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। परिवहनकर्ताओं को डिजिटल ट्रांसपोर्ट चालान, तौल विवरण के लिए दिया जाएगा। इसके बाद रबी फसलों से भरे ट्रक लोडिंग के वजन का निर्धारण धर्म-काँटे पर कराया जाएगा। धर्म-काँटे पर हुए वजन को ही अंतिम माना जाएगा।

प्रदेश में इस वर्ष रबी उपार्जन में आज तक एक लाख 57 हजार 9५7 किसानों से 5 लाख 64 हजार 202 मीट्रिक टन गेहूँ की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जा चुकी है। प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण शिव शेखर शुक्ला ने बताया है कि कल से प्रतिदिन एक लाख किसानों को खरीदी केन्द्र पर आने के लिये संदेश एस.एम.एस. से भेजे जा रहे हैं। साथ ही, तीन दिन पहले मैसेज किया जाना भी सुनिश्चित किया गया है।

प्रमुख सचिव शुक्ला ने बताया कि रबी उपार्जन के प्रथम दिन 45 अप्रैल को 2766 किसानों द्वारा 4५954 मीट्रिक टन गेहूँ का विक्रय किया गया। दूसरे दिन 46 अप्रैल को 6738 किसानों द्वारा 42 हजार 824 मीट्रिक टन गेहूँ का समर्थन मूल्य पर विक्रय किया गया। तीसरे दिन 47 अप्रैल को 43 हजार 720 किसानों द्वारा 25 हजार 495 मीट्रिक टन गेहूँ का समर्थन मूल्य पर विक्रय किया गया। चौथे दिन 48 अप्रैल को 25 हजार 792 किसानों से 60 हजार मीट्रिक टन, पाँचवे दिन 49 अप्रैल को 34 हजार किसानों से 89 हजार 446 मीट्रिक टन, छठवे दिन 20 अप्रैल को 30 हजार 696 किसानों से एक लाख 45 हजार 694 मीट्रिक टन तथा सातवे दिन 24 अप्रैल को 47 हजार 254 किसानों से दो लाख 52 हजार 808 मीट्रिक टन गेहूँ खरीदा गया।