सूदखोरों की पिटाई में घायल हुए वृद्घ की मौत

शेयर करें:

जबलपुर@ घमापुर थाना क्षेत्र स्थित नई बस्ती कांचघर की इस घटना में सूदखोरों की पिटाई में गंभीर रूप से घायल हुए वृद्घ की मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने पुलिस पर गंभीर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि 1 जनवरी को घटना हुई थी, लेकिन इसके बाद भी पुलिस ने न तो मामला दर्ज किया था न ही आरोपियों की गिरफ्तारी।

इस संबंध में घमापुर पुलिस ने अपना पक्ष रखते हुए आरोपों को गलत बताया है, पुलिस का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ घटना की जानकारी मिलने के तत्काल बाद एफआईआर दर्ज कर दी गई थी। मामले की जांच अजाक डीएसपी द्वारा की जा रही थी, घायल की मौत होने के बाद हत्या की धाराएं बढ़ाकर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इंजीनियर प्रवीण गजभिये ने बताया कि कांचघर नई बस्ती में रहने वाले 55 वर्षीय जगदीश चौधरी सब्जी का ठेला लगाकर परिवार का पालन करते हैं। कुछ महीने पूर्व जगदीश ने पारिवारिक जरूरत के लिए क्षेत्र के चेतन कुचबुंधिया और चंचल झा से सा़ढ़े तीन हजार रूपए उधार लिए थे। जगदीश ने धीरे-धीरे उधार की रकम चेतन और चंचल को वापस कर दी थी। लेकिन दोनों ब्याज के 10 हजार रुपए मांगकर जगदीश को परेशान कर रहे थे। 1 जनवरी की शाम चेतन और चंचल जगदीश को घर से उठाकर ले गए थे, दोनों ने रामहरक का बगीचा इलाके में जगदीश को नग्न हालत में 5-6 घंटे तक लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा था। रात में दोनों जगदीश को घर के पास फेंककर चले गए थे। जगदीश को परिजनों ने विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती कराने के बाद घमापुर थाने में सूचना भी दी थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इंजीनियर गजभिये का आरोप है कि इस संबंध में उन्होंने पीड़ित परिवार के साथ 6 जनवरी को एसपी महेन्द्र सिंह सिकरवार से भी शिकायत की थी। कार्रवाई न होने पर 11 जनवरी को डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला को ज्ञापन सौंपा था। जिसके बाद पुलिस कार्रवाई की बात करने लगी थी।

जगदीश चौधरी के साथ मारपीट करने वालों के खिलाफ पूर्व में ही मामला दर्ज कर लिया गया था। अब इस मामले में हत्या का प्रकरण दर्ज करके दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।