गृहिणी से सफल उद्यमी बनीं वर्षा अग्रवाल, डिजिटल ऑफसेट प्रिंटिंग प्रेस के संचालन में मिली सफलता

शेयर करें:

जबलपुर। डिजिटल ऑफसेट प्रिंटिंग प्रेस के कुशल संचालन से जबलपुर की वर्षा अग्रवाल गृहिणी से सफल उद्यमी बन गईं हैं। उनकी प्रिंटिंग प्रेस में 9 लोगों को और रोजगार मिल रहा है। यह मुमकिन हुआ है मप्र सरकार की मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से ।

वर्षा अग्रवाल ने मास्टर ऑफ कम्प्यूटर मैनेजमेंट – एमसीएम तक की शिक्षा प्राप्त की। उनके पति निखिल अग्रवाल फोटो स्टूडियो चलाते हैं। वर्षा अग्रवाल ने अपने पति से कहा कि उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बावजूद उन्हें घर में बैठे रहना अच्छा नहीं लगता। बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने और परिवार की आर्थिक उन्नति के लिए मैं कोई नया उद्यम शुरू करना चाहती हूं क्योंकि फोटो स्टूडियो से पर्याप्त आमदनी नहीं हो पाती है। पति-पत्नी ने विचार-विमर्श कर डिजिटल प्रिंटिंग प्रेस लगाने का निर्णय लिया। इस प्रिंटिंग प्रेस की मशीनों और अन्य व्यवस्थाओं के लिए रूपयों की आवश्यकता थी। वर्षा को मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की जानकारी मिली। इस योजना में मप्र सरकार युवाओं को व्यवसाय/उद्योग स्थापना के लिए सहायता देती है।

वर्षा अग्रवाल ने जिला व्यापार उद्योग में संपर्क कर आवेदन दिया। यहां से उनका प्रकरण अनुमोदित करके बैंक ऑफ इंडिया की लार्डगंज जबलपुर मुख्य शाखा में भेजा गया। इस बैंक ने वर्षा अग्रवाल की डिजिटल ऑफसेट प्रिंटिंग प्रेस के लिए 80 लाख रूपए का लोन मंजूर किया। वर्षा अग्रवाल ने वर्धमान काम्पलेक्स, रसल चौक जबलपुर में रूपकला डिजिटल ऑफसेट प्रिंटिंग प्रेस शुरू की। अब यह प्रिंटिंग प्रेस अच्छी चल रही है। इसमें 9 लोगों को और रोजगार प्राप्त हो रहा है।

डिजिटल ऑफसेट प्रिंटिंग प्रेस के कुशल संचालन से वर्षा अग्रवाल को इस काम में अच्छी सफलता मिली है। वे बैंक की किस्तें नियमित रूप से जमा कर रहीं हैं। इस प्रिंटिंग प्रेस के माध्यम से उनके परिवार की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हुई है। वर्षा अग्रवाल अपनी इस सफलता के लिए मुख्यमंत्री और मप्र सरकार का बड़ा योगदान मानती हैं और उनके प्रति धन्यवाद ज्ञापित करती हैं। वे कहती हैं कि शिक्षित युवाओं को स्वयं का उद्यम/उद्योग लगाने के लिए आगे आना चाहिए। इससे युवा आत्म-निर्भर होंगे और दूसरों को भी रोजगार देने में भी मददगार बन सकेंगे।