वाराणसीः काशी विश्वनाथ धाम काॅरिडोर की डिजाइन में फिर बदलाव पर विचार-विमर्श

शेयर करें:

वाराणसी. काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर की डिजाइन में फिर बदलाव पर विचार-विमर्श शुरू हो गया है. कॉरिडोर के गंगा नदी के किनारे पर श्रद्धालुओं के प्रवेश का विचार है. अहमदाबाद की कंसल्टेंट एजेंसी एचसीपी ने इसका मॉडल तैयार किया है.

अब इसका धर्मार्थ कार्य मंत्री व शासन के अधिकारियों के सामने प्रजेंटेशन होगा. शासन से अनुमति के बाद इस पर काम होगा. विश्वनाथ धाम में प्रवेश के लिए मणिकर्णिका और ललिता घाट से मुख्य प्रवेश द्वार बनाने का विचार हो रहा है.

जून से सितम्बर तक गंगा में बाढ़ के कारण श्रद्धालुओं के आवागमन में दिक्कत को देखते हुए गंगा किनारे छोर पर प्रवेश व निकास की व्यवस्था में बदलाव होने जा रहा है. सावन व शिवरात्रि के मौके पर काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं.

भक्तों को कठिनाई नहीं हो इसलिए डिजाइन में परिवर्तन होगी. इसके लिए मणिकर्णिका घाट व ललिता घाट पर बनने वाले मंच का आकार छोटा किया जा सकता है. उत्तर प्रदेश सरकार की कैबिनेट ने काशी विश्वनाथ कॉरिडोर की डिजाइन या निर्माण के बाबत कोई निर्णय लेने के लिए मंडलायुक्त की अध्यक्षता में आठ विभागों की संयुक्त समिति बनायी है.

इसके निर्णय के बाद कैबिनेट की अनुमति से कॉरिडोर की डिजाइन में परिवर्तन किया जा सकता है. काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण 460 करोड़ रुपये से 50 हजार वर्ग मीटर में कराया जा रहा है.