जयपुर से आया वैक्सीन चोरी का मामला, अस्पताल से चोरी हुईं कोवैक्सिन की 320 खुराकें

शेयर करें:

 

कोरोना वायरस वैक्सीन की तंगी की खबरों के बीच राजस्थान की राजधानी जयपुर से वैक्सीन चोरी का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां के एक अस्पताल से भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सिन’ वैक्सीन की 320 खुराकें चोरी हो गईं। अस्पताल ने ट्रांसपोर्टेशन के दौरान वैक्सीन चोरी होने की बात कही है और इस संबंध में पुलिस में भी शिकायत दर्ज कराई है। ये देश में वैक्सीन चोरी का पहला मामला है।

क्या है पूरा मामला?
मामला जयपुर के शास्त्री नगर स्थित कावंटिया सरकारी अस्पताल का है। 12 अप्रैल को जब केंद्र सरकार से राजस्थान को वैक्सीन मिली थी, तब उसी शाम कुछ खुराकें कावंटिया अस्पताल को भेजी गईं। जब अस्पताल के अधिकारियों ने स्टॉक की जांच किया तो उन्हें कोवैक्सिन की 10 शीशियां कम मिलीं। एक शीशी में 10 खुराकें होती हैं और इस हिसाब से कुल 320 खुराकें कम मिलीं। खुराकें कम होने का खुलासा होने पर अधिकारी सकते में आ गए।

अस्पताल ने बुधवार को दर्ज कराई पुलिस में शिकायत
खबरों के अनुसार, घटना सामने आने के बाद अस्पताल ने दो दिन अपने स्तर पर जांच की और जब इसमें कुछ हाथ नहीं लगा तो बुधवार को पुलिस थाने में जाकर FIR दर्ज करा दी। पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 380 के तहत मामला दर्ज किया है और जांच में जुट गई है। चीफ मेडिकल ऑफिसर नरोत्तम शर्मा ने कहा, “320 खुराकों के गायब होने से हम हैरान रह गए थे। हमने जांच की मांग की है।” सबसे अधिक चौंकाने वाली बात यह है कि जिस जगह से वैक्सीन की चोरी हुई, वहां का CCTV कैमरा ही काम नहीं कर रहा है। इस कारण अस्पताल के किसी कर्मचारी के ही चोरी में शामिल होने की आशंका जताई जा रही है।

अशोक गहलोत ने पिछले हफ्ते उठाया था खुराकों की कमी का मुद्दा
बता दें कि वैक्सीन चोरी का यह मामला ऐसे समय पर सामने आया है जब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले हफ्ते ही वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा था कि राज्य के पास पर्याप्त खुराकें नहीं हैं और इस कारण कई केंद्रों पर वैक्सीनेशन बंद करना पड़ा है। वैक्सीन की कोई कमी न होने के केंद्र के दावे को उन्होंने गलत बताया था और उपलब्ध खुराकों की स्थिति सार्वजनिक करने की मांग की थी।

राजस्थान में वैक्सीनेशन की स्थिति?
राजस्थान में मंगलवार तक कोरोना वैक्सीन की 1,00,80,932 खुराकें लगाई जा चुकी हैं। वह एक करोड़ से अधिक खुराकें लगाने वाला मात्र दूसरा राज्य है और इस मामले में केवल महाराष्ट्र उससे आगे है। राज्य में 88.87 लाख लोगों को पहली खुराक लगाई जा चुकी है, वहीं 11,94,436 लोगों को दोनों खुराकें लगाई जा चुकी हैं। पिछले चार दिन से राज्य में रोजाना औसतन 4.70 लाख खुराकें लगाई जा रही हैं।