यूपी: गायत्री प्रजापति अभी भी पुलिस की पकड़ से बाहर

शेयर करें:

नाबालिग़ के यौन शोषण और उसकी मां से गैंगरेप के आरोपी यूपी के मंत्री गायत्री प्रजापति पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है लेकिन वो अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। कहा जा रहा है कि उनके विदेश भागने की आशंका है, जिसे देखते हुए यूपी पुलिस अब उनका पासपोर्ट निरस्त कराने में जुट गई है और देशभर के हवाईअड्डों को अलर्ट पर रखा गया है।

इस बीच गायत्री प्रजापति सहित सातों आरोपियों के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट जारी हो गया है। गायत्री विदेश ना भाग जाये, इसलिए उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया गया है। गायत्री को देखते ही गिरफ़्तार किए जाने के आदेश भी जारी किये गये हैं।

एयरपोर्ट के साथ नेपाल बार्डर की निगरानी कर रही सशस्‍त्र सीमा बल को भी सतर्क रहने के लिए कहा गया है। विपक्ष जहां इस मामले को लेकर अखिलेश सरकार पर ज़ोरदार हमले कर रही है.

अखिलेश बचाव की मुद्रा में है और गायत्री को सरेंडर करने की सलाह दे रहे हैं। पुलिस की ओर से गायत्री प्रजापति को मिली वाई कैटेगरी की सुरक्षा भी वापस ले ली गई है और उनके ठिकानों पर छापेमारी कर रही हैं। यूपी पुलिस का कहना है कि वो प्रजापति की हर गतिविधि पर नजर रखे हुए हैं।

उधर पीड़ित नाबालिग़ ने दिल्ली के AIIMS में पुलिस के सामने अपना बयान दर्ज कराया है । हालांकि लड़की के परिवार और उनके वकील दोनों ने बयान दर्ज कराने का विरोध किया और आरोप लगाया कि पुलिस बयान बदलने के लिए दबाव डाल रही है ।

लखनऊ में मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष लड़की की मां का बयान पहले ही दर्ज किया जा चुका है। लड़की की मां ने दावा किया है कि राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी में एक पद और रेत खनन का ठेका देने का वादा कर उससे दो साल से भी अधिक समय तक कई बार सामूहिक बलात्कार किया गया।

लड़की की मां ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था जिसने प्रजापति के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था। विपक्ष जहां इस मामले को लेकर अखिलेश सरकार पर जोरदार हमला कर रही है वहीं अखिलेश बचाव की मुद्रा में है और गायत्री को सरेंडर करने की सलाह दे रहे हैं