चुनावी सामग्री का मुद्रण नियमों के तहत् हो, अन्यथा होगी सख्त कार्यवाही

शेयर करें:

उमरिया @ निर्वाचन कार्यक्रम की घोषणा के पश्चात् छपने वाली चुनावी सामग्री का मुद्रण तथा प्रचार-प्रसार चुनाव आयोग के निर्देशानुसार सुनिश्चित किया जाये। प्रिंटिंग प्रेस संचालक चुनाव प्रचार-प्रसार सामग्री को छापने से पूर्व संबंधित अभ्यर्थी से लिखित प्रमाण-पत्र अनिवार्य रूप से ले तथा ऐसी सामग्री को चार प्रतियों में जिला निर्वाचन कार्यालय को तत्काल उपलब्ध करायें।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी माल सिंह ने निर्देश दिए है कि चुनाव के दौरान छपने वाली सभी सामग्रियों में मुद्रक एवं प्रकाशकों का नाम तथा छापी गई प्रतियो की संख्या अनिवार्य रूप से मुद्रित होनी चाहिए। उन्होंने केबल संचालकों से कहा है कि किसी भी प्रकार के राजनैतिक विज्ञापनों के प्रसारण से पूर्व अभ्यर्थी से प्रसारण की अनुमति का दस्तावेज जरूर प्राप्त करे। उसके बाद ही प्रसारण किया जाये। नियमों के उल्लंघन पर चुनाव आयोग के निर्देशानुसार कठोर कार्यवाही की जायेगी।

छपने वाली चुनाव सामग्री पम्पलेट, पोस्टर, बैनर तथा केबल संचालकों से विज्ञापन प्रसारण से संबंधित आवश्यक जानकारी निर्धारित प्रारूप में जिला निर्वाचन कार्यालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि बिना अभ्यर्थी के अनुमोदन के चुनाव सामग्री छापने तथा प्रकाशक या मुद्रक का नाम नहीं लिखने पर धारा 171 ’क’ तथा अन्य कानूनों के तहत् वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।