तूतीकोरिन हिंसाः पुलिस फायरिंग में अब तक 13 की मौत, इंटरनेट सेवा पर रोक

शेयर करें:

तमिलनाडु के तूतीकोरिन जिले में वेदांता समूह की कंपनी इकाई स्टरलाइट इंडस्ट्रीज इंडिया लिमिटेड के खिलाफ पिछले कई महीनों से चल रहा प्रदर्शन मंगलवार को हिंसक हो गया. इसके बाद पुलिस ने गोलीबारी कर दी. इस गोलीबारी में अब तक 13 लोगों के मारे जाने की खबर है. जबकि 70 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं. इसके अलावा इंटरनेट सेवा पर भी रोक लगा दी गई है.

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, बुधवार रात से इंटरनेट सेवा अस्थाई रूप से अगले पांच दिन के लिए बंद कर दी गई है. दरअसल, बुधवार को फिर से हिंसा भड़क गई थी. इसमें एक और नागरिक की मौत हो गई जबकि 3 अन्य घायल हो गए. इसे देखते हुए रात 9 बजे से प्रशासन ने इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं. मद्रास हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि तूतीकोरिन में मारे गए लोगों के शव अगले आदेशों तक सुरक्षित रखे जाएं.

मंगलवार को हुई गोलीबारी के चलते जिले में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और धारा 144 लगा दी गई है. गृह मंत्रालय ने तमिलनाडु सरकार से इस घटना के बाबत रिपोर्ट मांगी है. उधर मद्रास उच्च न्यायालय की मदुरै बेंच ने बुधवार को स्टरलाइट कॉपर के तुतीकोरिन संयंत्र में विस्तार को लेकर चल रहे निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है.

बता दें कि तमिलनाडु के तूतीकोरिन में पिछले सैकड़ों दिनों से 18 गांव के हजारों लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. ये प्रदर्शनकारी वेदांता के स्टरलेट कॉपर यूनिट का विरोध कर रहे हैं, जो मंगलवार (22 मई) को हिंसक हो गया. इसके बाद प्रदर्शनकारियों की पुलिस से झड़प हो गई. जिसके बाद पुलिस ने गोलीबारी कर दी.

स्टरलेट कॉपर कारखाने को बंद किये जाने की मांग करने वाले प्रदर्शनकारियों का कहना है कि इससे आसपास के गांवों के लोगों को कैंसर की बीमारी हो रही है. यह लोग पिछले सैकड़ों दिनों से फैक्ट्री बंद किए जाने की मांग कर रहे थे. लेकिन इस पर कुछ होता न देख प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए. प्रदर्शन के दौरान उस वक्त हालात बेकाबू हो गये जब लोगों ने कलेक्टर कार्यालय की घेराबंदी कर कॉपर यूनिट को बंद किये जाने की मांग की.