Skip to content

प्लेटफॉर्म टिकट से भी कर सकते हैं यात्रा, जानें क्या है रेलवे का नियम

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


लंबी यात्रा के लिए देश के अधिकांश लोगों की पहली पसंद ट्रेन होती है। ट्रेन से यात्रा करने के लिए पहले से ही कंफर्म या तत्काल टिकट बुक करानी पड़ती है, जिसके बिना आप ट्रेन का सफर नहीं कर सकते। हालांकि आज हम आपको रेलवे के उस नियम के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके तहत आप बिना रिजर्वेशन के भी ट्रेन से यात्रा कर सकते हैं। आइए इस नियम के बारे में जानते हैं।

प्लेटफॉर्म टिकट की मदद से कर सकते हैं यात्रा
लंबी यात्रा की प्लानिंग अचानक से बन जाने पर लोग तत्काल टिकट के विकल्प को चुनते हैं, लेकिन कभी-कभी इसमें भी चूक जाते हैं। ऐसी दशा में रेलवे स्टेशन पर मिलने वाली प्लेटफॉर्म टिकट आपकी मदद कर सकती है, जिसकी मदद से आप अपनी मंजिल तक आसानी से पहुंच सकते हैँ। इस तरह से यात्रा करने के लिए आपको अतिरिक्त शुल्क के साथ गंतव्य स्थान तक का किराया देना होगा।

ट्रेन में ही टिकट बनाने का है नियम
प्लेटफॉर्म टिकट की मदद से आपकी ट्रैवलिंग की शुरूआत का पता चल जाएगा, जिसकी मदद से आप ट्रेन में ही टिकट खरीद सकते हैं। इसके लिए आपको ट्रैवलिंग टिकट एग्जामिनर (TTE) से संपर्क करना पड़ेगा। TTE आपसे पेनाल्टी के रूप में 250 रुपये अतिरिक्त शुल्क के साथ टिकट का पैसा वसूल करेगा। वहीं रिजर्वेशन न होने की वजह से TTE आपको सीट नहीं दे पाएगा, लेकिन वह यात्रा करने से नहीं रोकेगा।

क्या होती है प्लेटफॉर्म टिकट?
प्लेटफॉर्म टिकट उन लोगों के लिए होता है, जो अपने परिजन या किसी दोस्त को रेलवे स्टेशन के अंदर छोड़ने जाते हैं। रेलवे स्टेशन के अंदर प्रवेश करने के लिए हर शख्स को प्लेटफॉर्म टिकट खरीदना पड़ता है, नहीं तो पकड़े जाने पर जुर्माना देना पड़ता है। देशभर के रेलवे स्टेशनों पर 10 रुपये में प्लेटफॉर्म टिकट मिलती है। कोरोना वायरस महामारी के दौरान इसकी कीमत बढ़ाकर 50 रुपये कर दी गई थी, जिसे फिर से घटा दिया गया।

पोस्ट ऑफिस से टिकट
आपको बता दें कि यात्रियों की समस्या को खत्म करने के लिए इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने पोस्ट ऑफिस से ट्रेन टिकट योजना की शुरूआत की है। इस योजना की शुरूआत केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने 6 जनवरी को उत्तर प्रदेश से की। इसके तहत प्रदेश के 9,147 पोस्ट ऑफिस पर टिकट मिलेगी। रेलवे की तरफ से दावा किया जा रहा है कि जल्द ही यह योजना पूरे देश में लागू होगी। साल 2021 में पूर्व मध्य रेलवे के पांच मंडलों द्वारा टिकट चेकिंग अभियान चलाया गया, जिसमें नवंबर के महीने में बिना टिकट के 3,49,340 मामले आए हैं। जिनसे 20.1 करोड़ की राजस्व वसूली हुई। वैसे तो बिना टिकट ट्रेन में सफर करना दंडनीय अपराध है।