तबादला एक्सप्रेस के तहत गाजीपुर को गाधिपुरी करने की उठी मांग

शेयर करें:

लखनऊ : प्रदेश में लगातार नाम बदलने का काम लगातार जारी है इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश सह मीडिया प्रमुख नवीन श्रीवास्तव ने गाजीपुर जिले का नाम बदलने की मांग की है | उन्होंने गाजीपुर जिले का नाम गाधिपुरी करने की मांग की है | इसे लेकर नवीन श्रीवास्तव ने डिप्टी सीएम केशव मौर्य से मिलकर पत्र भी सौपा है | भाजपा नेता के अनुसार प्राचीन काल के महर्षि विश्वामित्र के पिता राजा गाधि के नाम से ये गाधिपुरी नाम से विख्यात था, जिसे मुस्लिम आक्रांता मुहम्मद बिन तुगलक के सिपहसालार सैयद मसूद अल हुसैनी ने हिंदू राजा मांधाता को हराकर इस पर कब्जा कर लिया था | इस जीत के बाद उसे ‘गाजी’ की उपाधि से नवाजा गया और गाधिपुरी को बदलकर गाजीपुर कर दिया गया |

बता दें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकाल संभालने के बाद कई जिलों के नाम बदले | इसके अलावा इसी कतार में प्रदेश के 13 जिले और भी शामिल हैं, जहां के स्थानीय लोगों और नेताओं की तरफ से लगातार उन जिलों का नाम बदलकर पुराना गौरव वापस करने की मांग की जा रही है | अब गाजीपुर का प्राचीन गौरव फिर से लौटाने के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता व प्रवक्ता नवीन श्रीवास्तव ने गाजीपुर का नाम गाधिपुरी करने की मांग की है | उन्होंने इस संम्बन्ध में प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या को अनुरोध पत्र भेजा है |

बीजेपी नेता के अनुसार गाधिपुरी का अपना वैभवशाली अतीत रहा है | यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बीजेपी सरकार बनने के बाद जिस तरह से प्राचीन गौरव और संस्कृति का मान बढ़ाने का काम किया जा रहा है | हमें उम्मीद है कि गाजीपुर को भी अपना पुराना गौरवशाली नाम गाधिपुरी मिलेगा | भाजपा नेता ने बताया कि गाजीपुर को उसका प्राचीन गौरव लौटाने के लिए वह काफी समय से प्रयासरत हैं | इसी संदर्भ में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से मिल कर उन्हें गाजीपुर जी जनता की भावना से अवगत कराते हुए ये अनुरोध पत्र सौंपा है |

इन शहरों का बदल चुका है नाम

आपको बताते चलें कि योगी सरकार मुगलसराय जिले का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर, इलाहबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किया गया, जबकि देव दीपावली के दिन फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया गया | अयोध्या नाम करने के बाद अब बस्ती जिले के नाम बदलने की तैयारी है |