ब्लू व्हेल चैलेंज से भी ज्यादा खतरनाक हैं ये गेम्स

शेयर करें:

न दिनों सुर्खियां बटोर रहा ब्लू व्हेल गेम दुनिया के खतरनाक औनलाइन गेम में गिना जाता है. लेकिन आपको बता दें कि यह गेम चैलेंज पहला ऐसा खतरनाक चैलेंज नहीं है, इससे पहले भी ऐसे कई गेम आ चुके हैं जो लोगों को मौत के घाट उतार चुके हैं.

इन दिनों औनलाइन गेम, ब्लू व्हेल गेम बच्चों की मौत की वजह से सुर्खियों में है. इस गेम को दुनिया के खतरनाक औनलाइन गेम में गिना जाता है. इस गेम का शिकार ज्यादातर किशोर होते हैं, जिन्हें इस गेम के जरिए खतरनाक चैलेंज दिए जाते हैं. बता दें कि इस गेम को बैन किया जा चुका है. भारत सरकार ने इंटरनेट पर मौजूद इस गेम की सभी लिंक हटाने के आदेश दे दिए हैं, बावजूद इसके इस गेम की वजह से बच्चों की खुदकुशी जैसे कई मामले सामने आ रहे हैं.

तकनीक
अब टूटने पर खुद ही रिपेयर हो जाएगी आपके फोन की स्क्रीन बता दें कि ब्लू व्हेल चैलेंज कोई पहला ऐसा खतरनाक चैलेंज नहीं है, इससे पहले भी ऐसे कई देशों में ऐसे चैलेंज आ चुके हैं जो लोगों को मौत के घाट उतार चुके हैं.

एयरोसोल चैलेंज

ये गेम 2014 में चर्चा में आया जब इस गेम के चलते कई बच्चों ने खुद को घायल कर लिया. इस गेम में बच्चों को स्किन पर एयरोसोल (Aerosol) स्प्रे छिड़कने का टास्क दिया जाता था. उस समय बच्चे स्प्रे करती हुई वीडियो को सोशल मीडिया पर पोस्ट करते थे. इस गेम से अमेरिका में कई बच्चों ने स्किन के बहुत करीब से स्प्रे छिड़ककर खुद को जला लिया था.

नेक्नोमिनेट

ये एक ड्रिकिंक चैलेंज है, जिसमें एक सोशल मीडिया पर एक दूसरे को ड्रिंक को लेकर अजीबोगरीब चैलेंज दिया जाता था. इनमें से कुछ चैलेंज ऐसे भी थे जिनके चलते लोगों ने मौत को गले लगा लिया. पिसे हुए चूहे और कीड़ो का काकटेल बना कर पीना, गोल्डफिश को निगलना, अडें, बैटरी का लिक्विड, यूरीन और 3 गोल्डफिश को एक साथ मिलाकर जूस पीना, टॉयलेट क्लीनर, वोडका और मिर्च पाउडर का शेक पीने जैसा इस चैलेंज का हिस्सा था.

पास-आउट चैलेंज

ये गेम सोशल मीडिया के जरिए आगे बढ़ रहा था. गेम में अमरीकी बच्चे एक दूसरे को सोशल मीडिया खतरनाक चैलेंज देते थे. ये चैलेंज खुद को आग से जलाने, सीने पर चढ़ कर सांस रोकने या गरम पानी खुद पार डाल लेने का चैलेंज होते थे. इस गेम की वजह से कई बच्चों ने अपने भाई-बहनों को भी बुरी तरह जला दिया था.

रेपले

ये एक ऐसा चैलेंज है, जिसें महिला विरोधी अपराधों को बढ़ावा देने वाला शुरू किया गया था. हालांकि कुछ देशों के इसके खिलाफ होने के चलते इस पर जल्दी ही रोक लगा दी गई थी. अर्जेंटीना, इंडोनेशिया और न्यूज़ीलैंड जैसे देश शामिल थे जिन्होंने इस पर बैन लगा दिया था.

फायर चैलेंज

ये चैलेंज पूरी तरह खुद को जलाने को था. इसमें लोग एक दूसरे को खुद पर शराब छिड़क कर उसमें आग लगाने या खुद पर पर्फयूम डालकर उस पर लाइटर आन करके जलाने जैसा चैलेंज दिया जाता था. लोग ऐसे चैलेंज को एक्सेप्ट करते थे और सोशल मीडिया पर इसकी वीडियोंज को पोस्ट करते थे. इस चैलेंज से बहुत से बच्चे और यूवा मौत की चपेट में आ चुके हैं.