रेलवे स्टेशनों पर जन औषधि केंद्र खोलने का सैद्धांतिक निर्णय ले लिया गया है : श्री सुरेश प्रभु

शेयर करें:

रसायन एवं उर्वरक एवं संसदीय कार्य मंत्री, श्री अनंत कुमार ने आज रेलवे स्टेशनों और अन्य रेलवे प्रतिष्ठानों पर जन औषधि केंद्र खोलने के लिए रेल मंत्री, श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु के साथ गहन चर्चा की। इस अवसर पर सड़क परिवहन एवं राजमार्ग शिपिंग और रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री, श्री मनसुख लाल मंडाविया भी उपस्थित थे।

श्री प्रभु ने रेलवे मंत्रालय की ओर से पीएमबीजेपी योजना को मजबूत समर्थन सुनिश्चित करते हुए मीडिया के लोगों को बताया कि रेलवे स्टेशनों और अन्य रेलवे प्रतिष्ठानों पर जन औषधि केंद्र खोलने के सैद्धांतिक निर्णय को आज की बैठक में ले लिया गया है। रेल मंत्री ने यह भी बताया कि भारत में सबसे बड़े नियोक्ता के रूप में रेलवे ने दो मंत्रालयों के बीच मिल-जुले प्रयासों से जेनरिक दवाओं के प्रसार से आम आदमियों के बीच इसकी पहुंच बढ़ जाएगी।

हम आम आदमी के लिए किफायती, गुणवत्ता वाली जेनरिक दवाईयों तक पहुंच बढ़ाने के लिए रेलवे अवसंरचना के बड़े हिस्से का उपयोग करेंगे : श्री अनंत कुमार

बैठक के नतीजे पर मीडिया को संबोधित करते हुए श्री अनंत कुमार ने बताया कि बैठक फलदायक रही और श्री प्रभु ने प्रधानमंत्री के विज़न को आगे ले जाने हेतु रेलवे की ओर से पूर्ण समर्थन देने की बात की। श्री अनंत कुमार ने कहा “हम वृह्त रेलवे अवसंरचना का सर्वोत्तम उपयोग करते आम आदमी के लिए गुणवत्तापूर्ण जेनरिक दवाओं की पहुंच और वहनीयता बढ़ाने का काम करेंगे। ”

इसके अतिरिक्त श्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के देश के सभी नागरिकों तक गुणवत्तापूर्ण और वहनीय दवाओं तक पहुंच सुनिश्चित करने विज़न को प्राप्त करने के लिए पूरी शक्ति से जुटी है। मंत्री ने कहा कि देशभर में प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) के तहत 450 से ज्यादा जिलों में 1600 जन औषधि केंद्र खोलें और इन स्टोरों पर उपलब्ध सभी दवाएं डब्ल्यूएचओ जीएमपी (स्वच्छ उत्पादन अभ्यास) के मानकों पर खरी उतरती हैं।