बेटे के एडमिशन के लिए व्यवसायी बन गया झुग्गी वासी

शेयर करें:

दिल्ली@ देश के नामी संस्कृति स्कूल में बेटे को दाखिला दिलाने के लिए व्यवसायी ने खुद को झुग्गी बस्ती वासी दिखा दिया। उसने ईडब्ल्यूएस कोर्ट से बड़े बेटे को दाखिला दिला दिया। छोटे बेटे को प्रवेश दिलाते समय फर्जीवाड़ा सामने आ गया। संस्कृति स्कूल की शिकायत पर चाणक्यपुरी थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर व्यवसायी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

नई दिल्ली जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गौरव गोयल दालों की ट्रेडिंग करते हैं। वह 20 से ज्यादा विदेश यात्राएं कर चुके हैं। उन्होंने वर्ष 2013 में बड़े बेटे का ईडब्ल्यूएस कोटे से संस्कृति स्कूल में दाखिला करा दिया था। इसके लिए उन्होंने संजय कैंप झुग्गी बस्ती, चाणक्यपुरी का वोटर और आधार कार्ड बनवा लिया।

साथ में गरीबी का आय प्रमाण पत्र भी बनवाया। अब छोटे बेटे के प्रवेश के समय उन्होंने जनरल कैटेगिरी में फार्म भरा। साथ में उसका सिबलिंग फार्म भी जमा किया। उन्होंने कहा कि अब आय ठीक हो गई है, इसलिए दोनों बेटों का दाखिला सामान्य श्रेणी में कराना चाहते हैं।

संदेह होने पर स्कूल ने जांच कराई तो कई कागजात फर्जी निकले। संस्कृति स्कूल प्रशासन ने इसकी शिकायत पिछले सप्ताह चाणक्यपुरी थाने में की। पुलिस ने जालसाजी का मामला दर्ज कर जांच शुरू की तो बड़े बेटे का बर्थ सर्टिफिकेट फर्जी निकला। पुलिस संजय कैंप झुग्गी बस्ती का आधार व वोटर कार्ड बनवाने की भी जांच कर रही है, क्योंकि कारोबारी दक्षिण दिल्ली के पॉश इलाके में रहते हैं।

नई दिल्ली जिला डीसीपी मधुर वर्मा ने बताया कि आरोपी ने संस्कृति स्कूल में फर्जी कागजात के आधार पर बेटे का ईडब्ल्यूएस कोटे में दाखिला कराया था। स्कूल की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया। जांच में कागजात फर्जी पाए जाने के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।