केरल सरकार पर आतंक का माहौल बनाने का आरोप

शेयर करें:

केरल में भाजपा की ‘जन रक्षा यात्रा’ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिया हिस्सा। कहा, लोकतंत्र में हिंसा की नहीं कोई जगह। राज्य सरकार पर हिंसा को प्रश्रय देकर आतंक का माहौल तैयार करने का लगाया आरोप। केरल में हुईं बीजेपी और आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्याओं के खिलाफ बीजेपी की जन रक्षा यात्रा’ जारी है । मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने राज्य के कन्नूर जिले से इस यात्रा की शुरुआत की इसमें शामिल होने के लिये बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पहुंचे, तो उन्होंने राज्य की लेफ्ट सरकार पर जमकर हमला बोला।

योगी आदित्यनाथ ने कीचेरी में सात किलोमीटर के मार्च में हिस्सा लिया ।यात्रा शुरू करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ये यात्रा राज्य में राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ लोगों को जागरुक करने का काम करेगी । उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में हिंसा की कोई जगह नहीं है ।

इस दौरान उनके साथ केरल की बीजेपी इकाई के अध्यक्ष कुम्मानम राजशेखरन और कई नेता भी शामिल थे । उन्होंने केरल में सीएम पर सीधा हमला करते हुए कहा कि उनके ही गृह जिले में सबसे ज्यादा राजनीतिक हत्याएं हुई है और राज्य सरकार ने हिंसा को प्रश्रय देकर एक जिहादी आतंक का माहौल तैयार किया है ।

गौरतलब है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कन्नूर जिले में स्थित मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के गृह शहर से मंगलवार को जन रक्षा यात्रा की शुरुआत की । इसकी थीम है जिहादी-लाल आतंक के खिलाफ सबको खड़ा होना चाहिए । यह यात्रा राज्यभर में जाएगी और इसका समापन 17 अक्तूबर को तिरुवनंतपुरम में होगा।

अमित शाह ने भी राज्य में हिंसा के लिए सीएम विजयन को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि केरल के लोग कम्युनिस्ट हिंसा से थक गए हैं और इसका जवाब देंगे । अमित शाह ने बुधवार से सभी राज्यों की राजधानियों में दो सप्ताह की ‘पदयात्रा’ की घोषणा भी की ।

इसी क्रम में राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में भी पार्टी नेताओं ने राजनीतिक हिंसा के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। वहीं केरल में सत्तारूढ़ सीपीएम ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि बीजेपी अपने आरोपों को साबित करे । सीपीएम भले ही आरोपों से इंकार करे लेकिन बीजेपी का कहना है कि राज्य में साल 2001 से उसके 120 कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं, इसमें से 84 तो अकेले कन्नूर में मारे गए हैं। बीजेपी का आरोप है कि पिछले साल सीपीएम के सत्ता में आने के बाद से कन्नूर में 14 लोग मारे जा चुके हैं।