आयुष्मान स्वास्थ्य बीमा योजना की राह में रोड़ा बने बीमा नियामक इरडा के नये दिशा निर्देशों पर विशेष

शेयर करें:

रकार तमाम तरह की जनमानस से जुड़ी लाभदायक योजनाएं चलाती रहती है। इन योजनाओं मे जो योजनाएं लोगों के स्वास्थ से जुड़ी होती हैं वह बहुत ही अधिक महत्वपूर्ण होती हैं। सरकार जनमानस को स्वास्थ्य चिकित्सा सुविधा प्राथमिक स्तर से सीएचसी जिला एवं अन्य स्तरों पर उपलब्ध करा रही है।पिछले दिनों भारत सरकार ने स्वास्थ्य सुरक्षा गारंटी बीमा योजना चलाई गई थी जिसके तहत कार्ड बनाये गये थे।

इसमें बीमा धनराशि कम होने के नाते खासोआम के गंभीर रोगों का इलाज नहीं हो पाता था। लेकिन उसमें यह सुविधा थी कि मरीज का इलाज पास पड़ोस के पंजीकृत सरकारी एवं गैरसरकारी अस्पतालों में आसानी से हो जाता था। इस बार भारत सरकार ने इसके स्थान पर आयुष्मान स्वास्थ बीमा योजना चलाई है। इस योजना के तहत पाँच लाख रूपये का स्वास्थ्य बीमा करने का कार्य इस समय तेजी से युद्ध स्तर पर चल रहा है।

इस बार योजना में धनराशि बढ़ जाने लोगों में खुशी की लहर है और वह समझ रहे कि पिछली बार की तरह इस बार भी स्क्रैच कार्ड मिल जायेगा जिसे लेकर आसपास क किसी भी अच्छे पंजीकृत सुविधाजनक अस्पताल में इलाज करवा सकते है। अभी दो दिन पहले भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी स्वास्थ्य बीमा योजना के बारे में जो निर्णय लिये गये हैं वह अव्यवहारिक होने के साथ ही योजना के लाभ से गरीबों को दूर कर सकते हैं।

अब इस घोषित नयी व्यवस्था के तहत इस महत्वाकांक्षी खासोआम के स्वास्थ्य से जुड़ी इस स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ ले पाना आम आदमी के लिये कठिन नहीं बल्कि असंभव हो जायेगा क्योंकि वह मनमाने सुविधाजनक आसपास के सरकारी या गैर सरकारी अस्पतालों में अपना इलाज नही करा सकते हैं। बीमा नियामक इरडा के नये दिशा निर्देश लागू होने के बाद स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ मरीजों को सिर्फ उन्हीं अस्पतालों में उपलब्ध होगा जो एनएबीएच यानी नेशनल एक्रीडिटेशन बोर्ड फार हेल्थकेयर प्रोपवाइडर से पंजीकृत एवं प्रमाणित होगें।

ऐसे अस्पतालों की वर्तमान समय में पूरे देश में मात्र छः सौ है जबकि कुल अस्पतालों की संख्या देश में साठ हजार के आसपास हैं। स्वास्थ्य बीमा योजना में किया गया बदलाव देश की साठ फीसदी ग्रामीण एवं गरीब जनता के हक को उनसे दूर करने वाला है और अगर इसमें बदलाव करके पिछली बार की तरह इसे सुविधाजनक नहीं बनाया गया तो यह तय है कि योजना धरातल पर न उतरकर शोपीस बनकर रह जायेगी।????????