प्रयागराज: सैनिक का शव लेकर बिहार जा रहा था परिवार, सड़क हादसे में पत्नी और बच्ची समेत पांच घायल

शेयर करें:

पापा-पापा हमें चोट लग गई, जख्मी बच्ची की पुकार सुन नम हो गई आंखें

प्रयागराज. भारत—नेपाल सीमा पर तैनात बीएसएफ जवान की सड़क हादसे में मौत के बाद शव लेकर अपने गांव बिहार जा रहा सैनिक का परिवार शनिवार की देर शाम प्रयागराज में सड़क हादसे का शिकार हो गया. हादसे में सैनिक की पत्नी, बच्ची समेत 5 लोग घायल हो गए. सूचना पर पहुंची पुलिस ने साथ में आ रही सैनिकों की टीम के साथ राहत एवं बचाव कार्य करके घायलों को उपचार के लिए अस्पताल भेजा. जहां एक व्यक्ति की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है.

बिहार के कैमूर जनपद के मोहनिया निवासी अभिजीत सिंह (28 वर्ष) बीएसएफ में सिपाही थे. उनकी पोस्टिंग लखीमपुर खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर थी. शुक्रवार को वहीं पर एक सड़क हादसे में अभिजीत की मौत हो गई थी. पोस्टमार्टम के बाद परिजन उनका शव लेकर सेना के वाहन से कैमूर बिहार जा रहे थे. शव वाहन के पीछे बोलेरो में अभिजीत का परिवार था. प्रयागराज के थरवई थाना क्षेत्र के तारनडीह गाँव के सामने लखनऊ हाइवे पर बोलेरो चालक को देर शाम झपकी आ गई जिससे बोलेरो अनियंत्रित होकर डिवाईडर से टकरा कर पलट गई.

हादसे में सेना के जवान अभिजीत की पत्नी नेहा (25), अभिजीत की 22 माह की बेटी जान्हवी, रिश्तेदार अभय सिंह (30), बीना सिंह (40), अभय का भाई अंकित सिंह (28) घायल हो गए. चीख पुकार सुनकर पहुँचे ग्रामीणों ने बोलेरो में फंसे लोगों को बाहर निकाला और पुलिस को खबर दी. तब तक आगे आगे आर्मी के जवान जो पार्थिव शरीर ले जा रहे थे, उनको फोन करके घटना की जानकारी दी गई तो आर्मी के जवान वापस लौटे. 108 एम्बुलेंस की दो गाड़ियों से घायलों को उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल भेजा. जहां से अभय सिंह को एसआरएन हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया. अभय के सिर में गंभीर चोट लगी है. बाकी लोग प्राइमरी ट्रीटमेंट के बाद बिहार के लिए रवाना हो गए.

पापा-पापा हमें चोट लग गई, जख्मी बच्ची की पुकार सुन नम हो गई आंखें

अभिजीत की 22 माह की बेटी जान्हवी की चीख सुनकर मौजूद लोगों की आंखें नम हो गई. वह पापा-पापा बुला रही थी. उसको क्या पता कि उसके पापा कभी लौट कर नहीं आएंगे. पत्नी नेहा का रो रोकर बुरा हाल था.