तालिबान ने पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा- अब दुनिया के साथ मिलकर और अफगानिस्तान में समावेशी सरकार चाहते हैं

शेयर करें:

अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान (Taliban) ने अब मीडिया से बात की है. सत्ता पर नियंत्रण के बाद ये पहला मौका है जब तालिबान ने आधिकारिक रूप से प्रेस कॉन्फ्रेंस की. तालिबान प्रवक्ता ने भविष्य को लेकर कई बातें कहीं. इसमें गैर तालिबानी लोग भी शामिल होंगे.

तालिबान ने कहा कि हम अपने पड़ोसी और क्षेत्रीय देशों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि हम अफगानिस्तान की धरती को किसी भी देश के खिलाफ इस्तेमाल करने की इजाजत किसी को नहीं देंगे. विश्व समुदाय को हम बताना चाहते हैं कि हमसे और हमारी ज़मीन से उन्हें किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा.

तालिबान के प्रवक्ता ज़बीहुल्लाह मुजाहिद अफगानिस्तान के कई प्रमुख मीडिया संस्थानों से प्रेस वार्ता में बात करते हुए कहा कि हमें 20 साल बाद आज़ादी मिली है. विदेशी सेनाएं हमारी धरती से चली गईं. अफगानिस्तान में महिलाओं को काम करने की आज़ादी होगी, लेकिन ये सब इस्लामी मान्यताओं और कानूनों के तहत होगा. हम महिलाओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करने जा रहे हैं. तालिबान ने कहा कि हम अफगानिस्तान में एक समावेशी सरकार चाहते हैं.

अफगानिस्तान के अहम न्यूज़ चैनल टोलो न्यूज़ के हवाले से आई खबर के अनुसार तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि काबुल में जितने भी देशों के दूतावास हैं, सब हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं. हम विश्व के देशों को बताना चाहते हैं कि सभी दूतावासों, मिशनों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और अन्य एजेंसीज की हम अफगानिस्तान में सुरक्षा करेंगे.