सीरिया हमला: अमेरिका ने रूस को ठहराया ज़िम्मेदार

शेयर करें:

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को सीरिया में हुए केमिकल हमले के लिए रूस, ईरान और सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद को जिम्मेदार ठहराया है। साथ ही उन्होंने कड़ी चेतावनी दी है कि सीरिया में केमिकल हमले में शामिल लोगों और देशों को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।

ट्रंप ने एक ट्वीट कर कहा कि सीरिया में मूर्खतापूर्ण केमिकल हमले में महिलाओं और बच्चों समेत कई लोगों की मौत हो गई। जहां पर केमिकल हमला हुआ, उस इलाके को सीरियाई सेना ने चारो ओर से घेर रखा है। ऐसे में वहां दुनिया के बाहर से कोई पहुंच ही नहीं सकता है। इस हमले के लिए असद का समर्थन करने के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, रूस और ईरान जिम्मेदार हैं।

अमेरिका ने सीरिया में हुए रासायनिक हमले की कड़ी आलोचना की। हमले में कम से कम 80 लोगों की मौत। अमेरिका ने इस हमले के लिए रूस और ईरान को ठहराया ज़िम्मेदार।

हालांकि रूस ने अमेरिका के आरोपों को सिरे से खारिज किया है। रूस और सीरिया ने कहा है कि यह दावा गलत है कि सीरियाई सरकार ने विपक्षी ठिकानों को ध्वस्त करने में केमिकल हथियारों का इस्तेमाल किया। ब्रिटेन ने इस घटना की फौरन जांच कराए जाने की मांग की है. पोप फ्रांसिस ने कहा कि रासायनिक हमलों के औचित्य को किसी तरह से जायज नहीं ठहराया जा सकता है. सीरिया में राहत बचावकर्मियों का कहना है कि डोमा शहर में ज़हरीली गैस से हमले में कम से कम 80 लोगों की मौत हुई है. हालांकि अमरीकी विदेश विभाग का कहना है कि मरने वालों की संख्या इससे कहीं अधिक हो सकती है. संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंतोनिया गुतरेस ने भी सीरिया में नागरिकों के खिलाफ रासायनिक हथियारों के कथित इस्‍तेमाल पर चिंता जताई है।