सुषमा स्वराज ने 9वें भारत-जापान रणनीतिक संवाद में हिस्सा लिया

शेयर करें:

जापान के दौरे पर गईं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कल 9वें भारत-जापान विदेश मंत्री स्तरीय रणनीतिक संवाद में हिस्सा लिया। इस दौरान दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों के साथ प्रादेशिक और वैश्विक मुद्दों पर एक-दूसरे के सहयोग को लेकर बातचीत हुई। इस मौके पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत के साथ जापान के संबंधों ने नई उंचाइयों को छूआ है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके जापानी समकक्ष तारो कानो ने कई वैश्विक मुद्दों पर भी चर्चा की। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत और जापान दोनों का मानना है कि किसी भी तरह का आतंकवाद दुनिया पर एक काला धब्बा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत और जापान के बीच लोगों का आदान-प्रदान लगातार बढ़ा है। दोनों देशों के बीच हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और महाराष्ट्र के लिए विभिन्न परियोजनाओं को लेकर दस्तावेजों का आदान-प्रदान हुआ।

इसमें मुंबई मेट्रो लाइन तृतीय परियोजना, चेन्नई समु्द्री जल के लिए डिसेलिनेशन प्लांट के निर्माण, चेन्नई महानगर के लिए क्षेत्रीय खुफिया परिवहन प्रणाली की स्थापना और हिमाचल प्रदेश वन पारिस्थितिकी तंत्र प्रबंधन को शामिल किया गया है। इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जापान में रह रहे भारतीय समुदाय के सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। सुषमा स्वराज ने भारतीय समुदाय को संबोधित किया और उनसे बातें की।

गौरतलब है कि भारत-जापान द्विपक्षीय संबंधों के एक नए युग की शुरूआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की साल 2014 में जापान यात्रा से शुरू हुई थी। पीएम बनने के बाद मोदी ने अमेरिका या किसी पश्चिमी देश की यात्रा करने के बदले जापान को तरजीह दी थी। उसके बाद जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी भारत आ चुके हैं।