आवासहीनों को भूमि के पट्टे दिए जाने का सर्वे आज से होगा प्रारंभ

शेयर करें:

देवास @ नगर में आवासहीनों को भूमि के पट्टे दिए जाने के संबंध में सर्वे का कार्य आज 10 अक्टूबर से प्रारंभ होगा। कलेक्टर आशीष सिंह ने एसडीएम देवास पुरुषोत्तम कुमार को नोडल अधिकारी बनाया है। एसडीएम कुमार ने बताया है कि शासकीय जमीनों में अनेक वर्षों से रह रहे व्यक्तियों के सर्वे और पट्टे हेतु जांच का कार्य आज से प्रारंभ होकर 31 अक्टूबर तक चलेगा। इसके लिए चार दल तहसीलदारों के नेतृत्व में बनाए गए हैं। इनमें पटवारियों और नगर निगम के कर्मचारियों को भी रखा गया है। देवास तहसीलदार संजय शर्मा, नायब तहसीलदार किरण गहलोत, प्रवीण पाटीदार और सुमन तोमर को दल प्रमुख बनाया गया है।

एसडीएम देवास कुमार ने बताया है कि सभी दल प्रभारी उन्हें आवंटित क्षेत्र अंतर्गत शिविर लगाएंगे। इसके लिए महत्वपूर्ण केंद्रीकृत स्थानों का चयन किया जाकर शिविर के दिनांक की पूर्व सूचना उस क्षेत्र में मुनादी कराकर की जाएगी। शिविर में संबंधितों से आवेदन-पत्र मय दस्तावेज के लिए जाएंगे। पूर्व में भी प्राप्त सभी आवेदन-पत्रों की जांच मौके पर की जाएगी। प्रत्येक व्यक्ति की पात्रता के संबंध में प्रभारी अधिकारी द्वारा स्पष्ट अभिमत दिया जाएगा।

एसडीएम देवास कुमार ने बताया है कि पूर्व में भी आवेदन-पत्र जनसुनवाई में अथवा कलेक्टर कार्यालय में अथवा एसडीओ कार्यालय में दिए गए हैं। उन सभी की जांच मौके पर की जाएगी। जो लोग पूर्व में आवेदन पत्र नहीं दे पाए हैं, वे मौके पर जांच दल को दे सकते हैं।

एसडीएम देवास कुमार ने बताया कि आवेदन के साथ राशन-कार्ड, बिजली बिल, आधार कार्ड, वोटर आईडी, 03 फोटो तथा शपथ-पत्र देना होगा। शपथ पत्र में यह उल्लेख होगा कि आवेदक के पास आवेदित भूखंड/मकान के अतिरिक्त अन्यंत्र कही भी और कोई भूखंड या मकान नहीं हैं। यह भी कि आवेदक या उसके परिवार की पूर्व में कभी कही कोई आवासीय पट्टा नहीं मिला है। ना ही उसने पूर्व में प्राप्त पट्टे का भूखंड या मकान किसी की विक्रय किया है और ना ही उसने आवेदित भूखंड या मकान किसी से क्रय किया है। शपथ पत्र में किए गए कथन की संपूर्ण जवाबदेही आवेदक की होगी। कोई भी कथन असत्य पाए जाने पर आवेदक के विरूद्ध वैधानिक दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।