Skip to content

सुप्रीम कोर्ट ने स्वामी ओमजी पर लगाया दस लाख का जुर्माना

इस ख़बर को शेयर करें:

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बिग बॉस शो के प्रतिभागी स्वामी ओमजी द्वारा जस्टिस दीपक मिश्रा को आगामी चीफ जस्टिस बनाये जाने के फैसले के खिलाफ याचिका दायर करने पर दस लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। चीफ जस्टिस जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली बेंच ने इस मामले में एक और याचिकाकर्ता मुकेश जैन पर भी दस लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

दोनों ने याचिका में कहा था कि जस्टिस दीपक मिश्रा को अगला चीफ जस्टिस बनाया जाना गैरकानूनी है लेकिन दोनों इसके पक्ष में कोई ठोस साक्ष्य पेश नहीं कर पाए। उन्होंने दलील दी कि वर्तमान चीफ जस्टिस द्वारा आगामी चीफ जस्टिस के नाम की अनुशंसा करना संविधान की भावना के खिलाफ है।

सुप्रीम कोर्ट ने दोनों याचिकाकर्ताओं को एक महीने के अंदर जुर्माने की रकम जमा करने का निर्देश दिया और कहा कि अगर ये जुर्माना नहीं जमा करते हैं तो एक महीने के बाद कोर्ट दोबारा इस मामले पर सुनवाई करेगी। जुर्माना लगाये जाने पर स्वामी ओमजी ने कहा कि हमारे पास दस रुपये भी नहीं है तो कोर्ट ने कहा कि आपके पास करोड़ों समर्थक हैं उनसे एक-एक रुपये ले लेंगे तो जुर्माने की रकम जमा हो जाएगी।

सुनवाई के दौरान स्वामी ओमजी ने कहा कि वे बिग बॉस में आने के बाद पॉपुलर हो गए। इस पर चीफ जस्टिस और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड कंफ्यूज हो गए और पूछा कि बिग बॉस का मतलब क्या। तब कोर्ट मास्टर ने समझाया कि बिग बॉस एक टीवी प्रोग्राम है। जिसके बाद कोर्ट ने दोनों के खिलाफ दस-दस लाख रुपये का जुर्माना लगा दिया।