आत्महत्या के लिये प्रेरित करने वालों के विरूद्ध प्रकरण दर्ज

शेयर करें:

जबलपुर @ थाना पनागर मे 18 फरवरी को आशीष पटेल 24 वर्ष निवासी नुनियाकला ने सूचना दी थी कि 17 फरवरी को रात 9 बजे उसका भतीजा अंशुल पटेल 18 वर्ष अपने कमरे मे सोने चला गया था। सुबह उसकी बड़ी माँ ने अंशुल के कमरे का दरवाजा खटखटाया दरवाजा नहीं खुलने पर दूसरे दरवाजे से अंदर जाकर देखा तो अंशुल पटैल कमरे मे ही पंखे में रस्सी से फांसी पर लटका था जिसकी मृत्यु हो चुकी थी। पंचनामा कार्यवाही कर शव को पीएम हेतु भिजवाते हुये मर्ग कायम कर जाँच मे लिया गया।

जांच के दौरान मृतक द्वारा लिखित मिले सुसाईड नोट तथा परिजनों एवं चश्मदीद साक्षियों के कथन पर पाया गया कि 17फरवरी को अंशुल पटेल सिंगौद स्थित स्कूल गया था, जहॉ सौरभ पटेल निवासी डुंगरिया एवं सौरभ के साथी विकास पटेल, साहिल पटेल, लकी पटेल ने अंशुल पटेल के साथ गालीगलौज करते हुये जान से मारने की धमकी दी एवं मारपीट की, जिस कारण अंशुल पटेल को चोटे भी आईं थी।

पूरी जांच पर सौरभ पटेल एवं उसके साथी विकास पटेल, साहिल पटेल, लकी पटेल द्वारा अंशुल के साथ गालीगलौज कर जान से मारने की धमकी देते हुये मारपीट करते हुये आत्महत्या के लिये प्रेरित किये जाने के कारण अंशुल द्वारा आत्महत्या किये जाने पर अपराध कायम कर आरोपियों की तलाश जारी है।