बेहद कम लागत में GST सुविधा सुविधा केंद्र खोलकर शुरू करें अपना व्यवसाय

शेयर करें:

 

GST सुविधा सुविधा केंद्र को खुलने की मंजूरी सरकार द्वारा दी जा रही हैं| इस सुविधा केंद्र के जरिए छोटे व्यापारियों को जीएसटी से सम्बंधित सुविधाएँ और बेहद कम लागत में युवाओं को खोलकर व्यवसाय शुरू करने का मौका प्रदान करती हैं| इसमें शामिल होने वाले लोग, व्यापारी और उद्योगपति आदि हैं। इसे जीएसटी सुविधा प्रदान करने वाली कंपनियों के माध्यम से खोला गया है, अर्थात् उनसे मताधिकार लिया जाता है। इसमें आप जीएसटी से संबंधित समस्या का समाधान करते हैं और उनसे कुछ शुल्क भी अर्जित करते हैं।

आप सभी को बता दें की यह GST सुविधा केंद्र के लिए गुड्स एंड सर्विस टैक्स नेटवर्क (GSTN) द्वारा प्राइवेट कंपनीज को Goods & Service Tax Provider (GSP) का लाइसेंस प्रदान किया गया है| आप इन सभी कंपनियों के माध्यम से जीएसटी सुविधा केंद्र खोल सकते हैं| यदि आप सभी यह GST सुविधा केंद्र खोलने की इच्छा रखते हैं तो आप इन GSP लाइसेंस प्राप्त कंपनियां द्वारा “GST Suvidha Kendra” की फ्रंचाइजी प्राप्त कर सकते हैं|

तो आइये जानते है जीएसटी सुविधा केंद क्या है? जीएसटी सेवा केंद्र की आवश्यकता क्यों है? GST सुविधा केंद्र के लिए आवेदन कैसे करें? जीएसटी सुविधा केंद्र खोलने के लिए कितने निवेश की आवश्यकता है? अथवा ऐसी कौन सी कंपनी हैं जो की, जीएसटी सेवा केंद्र की अनुमति प्रदान करती हैं? ऐसी ही कुछ बातों को हम इस लेख में विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे।

जीएसटी सुविधा केंद्र क्या है?
जो लोग वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली के तहत, पंजीकृत है उन लोगो को जीएसटी के तहत करने वाली प्रक्रियाओं (जीएसटी रिटर्न, जीएसटी रिफंड, जीएसटी में भुगतान) से काफी परेशानी हुआ करती थी। तो इस मसले का हल निकालने के लिए सरकार ने इस प्रक्रिया, जीएसटी सुविधा केंद्र को जन्म दिया। जीएसटी सेवा केंद्र, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBEC) द्वारा फरवरी वर्ष 2017 में स्थापित किया गया था। फरवरी वर्ष 2017 में लगभग 8000 जीएसटी सेवा केंद्र स्थापित किये गए थे।

जीएसटी सेवा केंद्र, जीएसटी से जुड़ी हर चीज के लिए वन-स्टॉप (एक बंद) सुविधा के रूप में कार्य करता है। अथवा सीबीईसी की यह पहल सभी व्यापार मालिकों को जीएसटी कराधान से संबंधित सभी मामलों के बारे में अच्छी तरह से अवगत कराने में मदद करने के लिए की गई थी।

जीएसटी सेवा केंद्र की आवश्यकता क्यों है?
जीएसटी सुविधा केंद्र का उद्देश्य भारत को पुरानी कर प्रणाली से नए कर प्रणाली, जीएसटी (माल और सेवा कर) शासन में प्रवास के लिए तैयार करना था। जब लगभग पूरा देश जीएसटी-पंजीकृत है, तो उनको जीएसटी के सभी कानूनों (जीएसटी पंजीकरण, जीएसटी माइग्रेशन और जीएसटी रिटर्न फाइलिंग) का पालन करना होगा।

लेकिन कुछ गोपनीय जानकारी के मुताबिक देखा गया की इन सभी कानूनों का पालन करने के लिए करदाताओं को काफी तकलीफों से गुजरना पड़ रहा था। तो ऐसी स्थिति में सरकार ने केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड की सहायता लेकर एक “जीएसटी सेवा केंद्र” नाम की मुहिम शुरू की। जिसने की करदाताओं को बहुत अधिक सहूलियत प्रदान की है।

जीएसटी सुविधा केंद्र के कार्य?
सीबीईसी द्वारा स्थापित किये गए जीएसटी सेवा केंद्र या जीएसटी हेल्प डेस्क प्रत्येक जीएसटी पंजीकृत करदाता को संबंधित नीतियों और जीएसटी रिटर्न फाइलिंग के साथ मार्गदर्शन करने के लिए प्रतिबद्ध है। सभी स्थानों पर सेवा देने वाले अधिकारी यह सुनिश्चित करते हैं कि कोई भी जीएसटी-पंजीकृत करदाता जो किसी प्रश्न या मुद्दे के साथ आता है, उन्हें किसी भी स्थिति में हल करना है।

जीएसटी हेल्प डेस्क इसके अलावा, प्रक्रियाओं और नए कराधान प्रणाली नियमों और विनियमन के बारे में जीएसटी से संबंधित प्रश्नों को संबोधित कर सकता है और प्रवासन, और कराधान से संबंधित मुद्दों को हल करने कके लिए, जीएसटी सुविधा केंद्र तैनात होते है। नीचे हम कुछ सेवा केंद्र के कार्यो के बारे में बताने जा रहे है। आप नीचे एक-एक करके विस्तार से जान सकते है।

1. जीएसटी सुविधा केंद्र की मदद से प्रलेखन (डॉक्युमेंटेशन)
भारत सरकार ने उन लोगो के लिए, जीएसटी सेवा केंद्र की स्थापना की है जिन लोगो के पास कंप्यूटर मशीन नहीं है, अथवा बहुत लोगो के पास कंप्यूटर भी है लेकिन चलना नहीं जानते, या तकनीक के जानकर नहीं है। और जीएसटी नेटवर्क के साथ-साथ जीएसटी रिटर्न और पंजीकरण के लिए स्थापित जीएसटी सत्यापन का लाभ नहीं उठा सकते हैं, तो ऐसे लोगो के लिए भारत में अलग-2 जगहों पर जीएसटी सहायता केंद्र जैसी तकनीक की स्थापना की गयी है। ताकि करदाताओं को जीएसटी के तहत किसी भी तरह की परेशानी न हो।

दूसरे शब्दों में कहें तो, सामान्य परिस्थितियों में, जीएसटी पंजीकरण केवल ऑनलाइन जीएसटी पोर्टल के माध्यम से आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए जो ऐसी तकनीक के जानकार नहीं है, तो उन लोगो के लिए, सरकार की तरफ से खोला गया एक जीएसटी सुविधा केंद्र मदद करता है। वे करदाताओं को डिजिटलीकरण / दस्तावेजों को अपलोड करने में सहायता करते हैं, अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता द्वारा विधिवत हस्ताक्षरित, एक सारांश पत्र के साथ, जिसकी जानकारी निर्धारिती द्वारा प्रदान की जाएगी।

सुविधा केंद्र की आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके आम पोर्टल पर दस्तावेज़ अपलोड करने के बाद, करदाता को उसके रिकॉर्ड के लिए पावती के प्रिंट आउट के साथ प्रदान किया जाएगा। तब जीएसटी सेवा केंद्र अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता द्वारा हस्ताक्षरित सारांश शीट को स्कैन करने और अपलोड करने के लिए जाएगा।

2. जीएससी की मदद से रिटर्न ई-फाइलिंग करना
करदाता जीएसटी सुविधा केंद्र की सहायता से अपना जीएसटी रिटर्न भी फाइल या दाखिल कर सकता है। यह प्रक्रिया जीएसटी पंजीकरण अथवा जीएसटी प्रलेखन प्रक्रिया के समान, करदाता को जीएसटी रिटर्न ने सभी दतावेज़ों को प्रदान करना होगा। इसके बाद, दस्तावेजों को अपलोड करके करदाता के आवश्यक रिटर्न दाखिल करने के लिए जीएसटी सहायता केंद्र जिम्मेदारी लेगा।

3. जीएसटी रिफंड भरिये जीएसटी सेवा केंद्र की मदद से
आमतौर पर, वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली के तहत, रिफंड प्रक्रिया ऑनलाइन जीएसटी पोर्टल के द्वारा की जा सकती है। लेकिन जिन व्यक्तियों को जानकारी नहीं होती है। तो ऐसे व्यक्ति जीएसटी सेवा केंद्र की सहायता से अपना जीएसटी रिफंड आसानी से भर सकते है। जहां इसके सदस्य करदाता की और से धनवापसी के लिए अपील दायर कर सकते है।

GST सुविधा केंद्र के लिए आवेदन कैसे करें?
अगर आप जीएसटी सुविधा केंद्र के लिए आवेदन करके पैसा कमाना चाहते हैं, तो आप किसी भी जीएसटी सेवा केंद्र फ्रेंचाइजी वेबसाइट पर जाकर जीएसटी सेवा केंद्र खोलने के लिए आवेदन कर सकते हैं। उदाहरण के लिए master india वेबसाइट पर जाने के बाद, आप जीएसटी सेवा केंद्र के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसमें आवेदन करने के लिए आपको कुछ चरणों से होकर के गुजरना पड़ेगा। आइये इन सभी चरणों को नीचे एक-एक करके विस्तार से जानने की कोशिश करते है।

  • सबसे पहले, आप ऊपर दी गयी वेबसाइट पर आपको क्लिक करना होगा। और आपको होम पेज पर ही कुछ विकल्प दिखाई देंगे। वेब पेज खुलने पर Request callback विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद एक फॉर्म खुलेगा। जिसमे की आपको नाम , मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, स्टेट और डिस्ट्रिक्ट का नाम भरना होगा।
  • एक बार फिर आपको request callback विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद, कंपनी के रेप्रेसेंटेटीव (प्रतिनिधित्व) द्वारा आपके मोबाइल नंबर पर फ़ोन से फ्रंचाइजी की जानकारी दी जायेगी।
  • फिर सुविधा केंद्र खोलने की जगह का जायजा लेने कंपनी के कर्मचारी खुद आएंगे।
  • अंत में आपकी पात्रता जाँच करने के बाद एग्रीमेंट करना होगा। फिर कंपनी जीएसटी सहायता केंद्र खोलने में आपकी मदद करेगी।

ध्यान दें : – जब आप किसी कंपनी की वेबसाइट पर जाते हैं और जीएसटी सुविधा केंद्र के लिए आवेदन करते हैं, तो आपको पहले यह जांचना होगा कि कही कंपनी एक धोखाधड़ी कंपनी तो नहीं है। क्योंकि कुछ कंपनियां आपसे डीडी लेकर भी भाग सकती हैं। इसलिए, आपको इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

जीएसटी सुविधा केंद्र के माध्यम से जीएसटी रिटर्न कैसे करें?
कर अधिकारियों द्वारा अधिसूचित किसी भी सुविधा केंद्र के माध्यम से करदाता द्वारा रिटर्न भी जमा किया जा सकता है और जीएसटी प्रणाली में करदाता द्वारा चुना जा सकता है। इसके लिए करदाता सुविधा केंद्र को आवश्यक दस्तावेज प्रदान करेगा। सुविधा केंद्र कर योग्य व्यक्ति द्वारा दिए गए सभी प्रकार के रिटर्न को अपलोड करने के लिए जिम्मेदार होगा। इसके बाद, जीएसटी सुविधा केंद्र की आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके आम पोर्टल पर डेटा अपलोड करके, जीएसटीएन प्रणाली करदाता के लिए एक ईमेल / एसएमएस उत्पन्न करेगी।

उसके बाद, टैक्स रिटर्न तैयार करके / सुविधा केंद्र का पंजीकरण CBEC / संबंधित राज्य कर अधिकारियों द्वारा किया जाएगा और पंजीकरण डेटा, TRST(टीआरएसटी) /(एफसीएस) FCs विकल्प में से किसी एक का चयन करने में आवेदकों या करदाताओं को सक्षम करने के लिए जीएसटीएन के साथ साझा किया जा सकता है। अथवा आप रिटर्न फाइलिंग सीधे या किसी तीसरे पक्ष के ऐप या सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके किया जा सकता है जो एपीआई का उपयोग जीएसटी प्रणाली के साथ या जीएसटी सेवा केंद्र के माध्यम से करता है।

जीएसटी सुविधा केंद्र खोलने के लिए पात्रता मानदंड?
जीएसटी सुविधा केंद्र खोलने के लिए, यह आवश्यक नहीं है कि आपको जीएसटी का पूरा ज्ञान होना चाहिए। बल्कि इसके लिए केवल कुछ मूल बातें आवश्यक है। नीचे एक-एक करके देखिये।

  • वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली के तहत, सुविधा केंद्र खोलने के लिए भले ही आपको जीएसटी के बारे में पूर्ण तरफ जानने की जरूरत नहीं पड़ती। पर इसका मतलब यह नहीं है, आपको जीएसटी के बारे में कुछ भी न पता हो। इसके लिए आपको कम से कम 12 वीं पास होना चाहिए।
  • आपको खाते (एकाउंटेंट) की पूरी जानकारी होनी चाहिए, तभी आप लोगों को यह सुविधा दे पाएंगे।
  • जीएसटी सेवा केंद्र खोलने के लिए, आपको उस स्थान पर कार्यालय चलाने के लिए कम से कम पर्याप्त स्थान होना चाहिए। जहां लोग इस सुविधा से आपके पास आ सकते हैं। इसके लिए, आपके पास 100 – 150 वर्ग मीटर का पर्याप्त स्थान होना जरुरी है।
  • इसके अलावा, आपके पास कुछ उपकरण होने चाहिए, जिनका उपयोग आपको इस केंद्र में करना होगा। कंप्यूटर, इंटरनेट से जुड़ी चीजें, प्रिंटर, स्कैनर और मोर्फो डिवाइस जैसी चीजें जरूरी हैं।
  • अब जब आप सभी सुविधाओं के साथ लोगों को प्रदान कर सकते हैं, तो अकेले प्रबंधन करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, इसलिए आप 1-2 लोगों को रख सकते हैं जिन्हें कुछ ज्ञान है जैसे कि डेटा प्रविष्टि, और लेखा कैसे करना है।
    जीएसटी सेवा केंद्र खोलने के लिए निवेश?
  • जीएसटी सुविधा केंद्र खोलने के लिए, आपको सबसे पहले स्थान पर निवेश करना होगा, उसके बाद आपको कुछ उपकरण को खरीदना होगा जो आप इसमें चाहते हैं। साथ ही, यदि आप कर्मचारियों को इस जीएसटी सेवा में रखते हैं, तो उन्हें वेतन आदि के लिए पैसा देना होगा। इसलिए, आपका इसमें कुल 30 से 40 हजार रुपये तक खर्च हो सकते हैं, जो की एक बड़ी रकम नहीं है। आप हर महीने 50 हजार कमाने के लिए, इतना निवेश कर सकते है।

जीएसटी सुविधा केंद्र कैसे खोजें?
केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने भारत भर के सभी जिलों में 8000 से अधिक जीएसटी सेवा केंद्र कार्यालय खोले हैं। कार्यालय सीमा और विभाजन के आधार पर स्थापित किए जाते हैं और इसलिए एक करदाता अपने प्राधिकरण के क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए निकटतम जीएसटी सेवा केंद्र से जुड़ सकता है।

उदाहरण के लिए, आप नॉएडा में रहे हो, तो यहाँ का निकटतम जीएसटी सुविधा केंद्र दिल्ली में पड़ता है। तो आप वहाँ जा सकते है। वास्तव में, भारत के प्रमुख शहरों में इन कार्यालयों की संख्या बहुत सन्देह रहित है।

आइये जानते है, निम्न शहरों में कितने जीएसटी सुविधा केंद्र उपस्थित है:

अगर आपको भी अपने आस पास एक जीएसटी हेल्प डेस्क के बारे में पता लगाना या खोजना है। तो आप दिए गए लिंक http://www.cbic.gov.in/ की सहायता से आसानी से पता लगा सकते है। अथवा आप सही जीएसटी हेल्पलाइन नंबर खोजने के लिए भी दिए गए लिंक की सहायता से पता लगा सकते है। अगर आपको अभी तक के सभी जीएसटी सहायता केंद्रों के नाम जानने है, तो आप नीचे दी गई लिंक से पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते है।

जीएसटी सेवा केंद्र – Contact Details Download

जीएसटी सुविधा केंद्र कौन चलाता है?
गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स के तहत, सरकार ने केंद्रीय उत्पाद और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) की सहायता लेकर के पूरे देश में जीएसटी सुविधा केंद्र संचालित किये है। अथवा सीबीईसी के द्वारा पूरे देश में जीएसटी हेल्प डेस्क संचालित अथवा चलाये जाते है। आप जीएसटी सेवा केंद्र पर जाने के लिए उन्हे नियुक्ति नहीं करते हैं।

जीएसटी सुविधा केंद्र पर भरोसा क्यों करना चाहिए?
जीएसटी सुविधा केंद्र के तहत, प्रवास के माध्यम से जीएसटी करदाताओं और व्यवसायों का मार्गदर्शन करने के अलावा, व्यापार आसान उपाय अथवा करदाताओं को जीएसटीआर फाइलिंग में सहायता करने के लिए प्रसिद्ध है। यह जीएसटी से पहले करदाताओं पर लगाए गए विभिन्न करों से छुटकारा पाने के लिए एक निश्चित कारण है और यह भारत को एक एकीकृत बाजार बनाने में लगा हुआ है।

सरल शब्दों में, जीएसटी सेवा केंद्र जीएसटी के लिए सहज प्रवास, जीएसटी के लिए आसान पंजीकरण और बहुत तेज और सटीक अथवा जीएसटी रिटर्न फाइलिंग अनुभव के लिए हर करदाता के लिए सहायता हेतु खड़ा है।

जीएसटी सुविधा केंद्र से पैसे कैसे कमाएं?
आपने ऊपर जाना की,वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली के तहत, आने वाली कठिन प्रक्रियाओं का समाधान करने के लिए सीबीईसी की सहायता लेकर जीएसटी सुविधा केंद्र जगह-जगह खोले गए है। अथवा जीएसटी सेवा केंद्र में आपको कम निवेश में अधिक पैसे कमाने का अवसर मिल सकता है। इसमें आप कुछ पैसे निवेश करके हर महीने 30,000 रुपये तक का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

हालाँकि, इसमें आपको 2 तरह से पैसा मिल सकता है, जैसे जब आप इसे कंपनी के माध्यम से चलाते हैं, तो इसमें आपको कमीशन के रूप में कंपनी से पैसा मिलता है। और इसके अलावा, जब आप जीएसटी के अतिरिक्त कुछ अतिरिक्त सुविधाएँ देकर इसे चलाते हैं, तो आप इसके लिए अपने ग्राहकों से अतिरिक्त शुल्क ले सकते हैं। आप निम्नलिखित आधार पर कंपनी द्वारा कमीशन प्राप्त कर सकते हैं।

  • अगर लोग जीएसटी चालान बनाने के लिए आपके पास आते हैं, तो कंपनी यह सुविधा देती है और उनसे 300 रुपये तक शुल्क लेती है। बदले में आपको कुछ 30 से 40% का कमीशन मिल सकता है।
  • इसी तरह, यदि लोग नए जीएसटी नंबर के लिए पंजीकरण करने के लिए आपकी जीएसटी सेवा केंद्र में आते हैं, तो कंपनी उनके लिए 750 रुपये तक प्राप्त कर सकती है। और इसमें भी आपको 30 से 40% कमीशन मिल सकता है।
  • इसके अलावा डिजिटल सिग्नेचर लेने पर आप ग्राहकों से 650 रुपये तक चार्ज कर सकते हैं। और इसके लिए आपको 20 से 30 प्रतिशत का कमीशन मिल सकता है।

कौन सी कंपनी जीएसटी सुविधा केंद्र प्रदान करती हैं?
जीएसटी सुविधा केंद्र खोलने के लिए, आपको जीएसटी सुविधा प्रदाता (प्रोवाइडर) की अनुमति लेनी होगी। ये कुछ कंपनियां हो सकती हैं जो जीएसटी सेवा केंद्र खोलने के लिए मताधिकार प्रदान करती हैं और फिर आप इसकी अनुमति के बाद, पैसे कमा सकते हैं।

जैसे की कुछ कंपनियां :- सीएससी (CSC), वक्रांजी (Vakranji), वीके वेंचर (VK Venture) एवं वैनविक टैक सलूशन (VanWeek Tech Solution) यह सुविधा प्रदान करती है। इसके अलावा, कुछ कंपनियां ऐसी भी होती है :- मास्टर जीएसटी (Master GST), बॉट्री सॉफ्टवेयर (Botry Software), मास्टर इंडिया (Master India) और वाइप डिजिटल सर्विसेज (Vape Digital Services) आदि साझेदारी में काम करती हैं।