#SSCSCAM : क्या गुनाह है सरकारी नौकरी के लिए मेहनत करना ?

शेयर करें:

#sscscame स्टाफ सेलेक्शन कमीशन (Staff Selection Commission) यानी एसएससी के पेपर लीक हो जाने के बाद छात्रों का गुस्सा सातवें आसमान पर है. एसएससी द्वारा आयोजित सीजीएल 2017 के टियर 2 की परीक्षा के प्रश्न पत्र और आंसर की लीक हो गई थी. जिसके बाद छात्रों ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया.

एक तरफ जहां परीक्षा देने वाले छात्रों की मांग है कि एसएससी परीक्षा को रद्द कर सीबीआई जांच कराए, वहीं एसएससी के अधिकारी टस से मस नहीं हो रहे हैं. छात्रों का आरोप है कि 17 से 22 फरवरी तक हुई परीक्षा का पेपर पहले ही लीक हो चुका था. इस बात को लेकर छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल ने एसएससी के चेयरमैन से भी मुलाकात की है.

चेयरमैन ने पेपर लीक से संबंधित सबूत मांगे और उसके बाद ही किसी तरह की कार्रवाई का आश्वासन दिया. उन्होंने कहा कि वे अपने स्तर पर सीबीआई जांच की मांग के संबंध में फैसला नहीं कर सकते. इधर, कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी आज छात्रों के प्रदर्शन की तस्वीरें ट्वीट करते हुए परीक्षा पर सवाल उठाया और सीबीआई जांच कराने की बात कही.

समाचार एजेंसियों के मुताबिक एसएससी की इस साल हुई सीजीएल टियर-2 की परीक्षा में 1,89,843 प्रतियोगी छात्र शामिल हुए थे. ये परीक्षा देशभर में 17 से 22 फरवरी के बीच हुई. परीक्षा ऑनलाइन हुई थी. छात्रों का आरोप है कि जब वो परीक्षा देकर बाहर आए तो पता चला कि परीक्षा का पर्चा सोशल मीडिया पर पहले ही लीक हो चुका था. सोशल मीडिया पर पेपर के स्क्रीन शॉट्स पहले से मौजूद थे.

इसी के बाद छात्रों ने परीक्षा की सीबीआई जांच कराने की मांग की. परीक्षा में गड़बड़ी के आरोपों को लेकर एसएससी ने बुधवार की रात आधिकारिक संदेश जारी किया। इसमें कहा गया था कि एसएससी टियर-2 परीक्षा में गड़बड़ी का आरोप लगा रहे छात्र कोचिंग इंस्टीट्यूट से जुड़े हुए हैं. फिर भी एसएससी इन छात्रों से बातचीत करने को तैयार है. छात्र गुरुवार तक सबूत पेश करें. इसके बाद मामले की जांच कराने पर विचार किया जाएगा.