स्पेन ने कैटालोनिया संकट में मध्यस्थता करने से किया इंकार

शेयर करें:

स्पेन की सरकार ने कैटालोनिया संकट में मध्यस्थता करने से किया इंकार। कैटालोनिया के नेताओं ने क्षेत्र की स्वतंत्रता की मांग पर मध्यस्थता की मांग की थी। स्पेन के प्रधानमंत्री ने कैटालोनिया के राष्ट्रपति से बातचीत के लिए स्वतंत्रता की मांग छोड़ने की शर्त रखी।

स्पैनिश प्रधानमंत्री मारियानो राजॉय ने उत्तर पूर्व में स्थित कैटालोनिया प्रांत में किसी भी प्रकार के जनमत संग्रह के होने से साफ-साफ इंकार किया है। उनका कहना है की कैटालोनिया के लोगों को प्रतिबंधित जनमत संग्रह में भाग लेने के लिए लगातार उकसाया गया था। उन्होंने इसके लिए स्थानीय सरकार को पूरी तरह दोषी ठहराते हुए यह कहा कि यह कुछ षड़यंत्रकारी अलगाववादियों की लोकतंत्र द्बारा स्थापित सरकार के खिलाफ एक गंभीर साजिश थी।

प्रधानमंत्री ने कहा की सरकार के प्रतिबंध के बावजूद हुए जनमत संग्रह के दौरान हुई हिसा में तकरीबन 844 से अधिक लोग घायल हो गए। उन्होंने इस दौरान कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुरक्षाबलों को बूत-बहुत धन्यवाद भी दिया।

देश के बर्तमान स्थिति पर स्पैनिश प्रधानमंत्री ने देश के सभी राजनीतिक दलों से विचार-विमर्श करने की भी बात कही। वहीं कैटालोनिया प्रांत की सरकार का साफ-साफ कहना है कि स्पेन से अलग होने के लिए कराए गए जनमत संग्रह में तकरीबन 22.6 लाख लोगों ने मतदान किया। कैटालोनिया सरकार के मुताबिक तकरीबन 90 प्रतिशत लोगों ने स्पेन से अलग होने के पक्ष में जमकर मतदान किया। कुल लगभग 53.4 लाख मतदाताओं में से 42.3 प्रतिशत ने इस जनमत संग्रह में खुद भाग लिया।