बैंक फ्रॅाड एवं सायबर क्राईम को लेकर SP ने ली बैंक अधिकारियों की बैठक, दिए सुरक्षा सम्बंधी निर्देश

शेयर करें:

जबलपुर। आज पुलिस कन्ट्रोलरूम मे बैंक एव ए.टी.एम. की सुरक्षा को लेकर बैंक मैनेजरों की एक बैठक पुलिस अधीक्षक जबलपुर सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर रोहित काशवानी (भा.पु.से.), अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर दक्षिण/अपराध) गोपाल प्रसाद खाण्डेल, की उपस्थिति मे ली गयी।

बैठक मे उपस्थित बैंक अधिकारियों से चर्चा के दौरान SP सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) ने बताया कि वर्तमान समय में सायबर क्र्राईम एवं बैंक फ्राॅड पुलिस के लिये चैलेेंज है, विगत 2-3 वर्ष में कई घटनायें जिले में ए.टी.एम एवं बैंक में चोरी के उद्देश्य से हुई हैं, जिसमे ए.टी.एम एवं बैंक को छति भी पहुंचाई गयी है, जिसे ध्यान मे रखते हुये बैंक एवं एटीएम सुरक्षा सम्बंधी, मापदण्डों का पालन करना नितांत आवश्यक हो गया है।

इसके साथ ही कई घटनायें बैंक में नोडल एजेन्सी के माध्यम से बैंक में कार्य करने वाले कर्मचारियांे के द्वारा की गयी है या फिर उनकी संलिप्तता पाई गयी है अतः एैसे कर्मचारियों का चरित्र सत्यापन सम्बंधित थाने से अनिवार्य रूप से करायें। रिकव्हरी के लिये जब भी टीम जाती है, सम्बंधित थाने को आवश्यक रूप से सूचित करें ताकि किसी प्रकार की कोई अप्रिय स्थिति निर्मित न हो सके।

इन सावधानी रखने को किया गया है निर्देशित
आपको बता दे कि बैंक एवं ए.टी.एम. की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुये निम्नांकित बिंदुओ पर विशेष सावधानी बरतने हेतु निर्देशित किया गया-

1- रिजर्व बैंक के द्वारा निर्धारित मापदंण्डो का पालन सुनिश्चित किया जावे साथ ही बैंक के जो भी कस्टमर हैं उन्हें सावधानी बरतने सम्बंधी निर्देशों की जानकारी का एक पम्पलेट भी दिया जावे कि उन्हे क्या करना है, क्या नहीं करना है।
2- बैंक हाॅट लाईन का कनेक्शन स्थानीय थानें से नहीं है तो शीघ्र करा लें ताकि कोई भी घटना होने पर तत्काल सूचना प्राप्त हो सके।
3- लोन स्वीकृत करने एवं खाते की जानकारी जैसे मोबाईल नम्बर, आधारकार्ड आदि चेंज करने के पूर्व भौतिक रूप से सत्यापन कर लिया जावे।
4- सायरन/अलार्म उपयुक्त व सुविधाजनक स्थान पर लगाते हुये सभी बैंक अधिकारी एवं कर्मचारियो को इसका प्रशिक्षण दिया जाये एवं समय-समय पर चैक भी करते रहें कि चालू हालत में हैं कि नही।
5- बैंक एवं ए.टी.एम. के प्रवेश द्वार एवं कैश टाªन्जेक्शन एरिया में हाई रिज्योल्यूशन सी.सी.टी.व्ही. कैमरे अवश्यक रूप से लगवाये ताकि आने-जाने वाले व्यक्ति की लगातार मोनिटरिंग हो सके तथा कैमरे की रिकार्डिंग का स्टोरेज कम से कम 30 दिनो का हो।
6- बैंक में ऐसे व्यक्ति को प्रवेश दे जिन्हे बैंक से लेन-देन करना हो, अनाधिकृत्य व्यक्तियों को प्रवेश न दे, इस हेतु बैंक के प्रवेश द्वार पर एक रजिस्टर रखे जिसमें सभी आने-जाने वाले व्यक्ति अपना नाम एवं पता लेख किया जाये।
7- यदि कोई संदेही व्यक्ति बैंक के आसपास घूमते हुये दिखते है तो तत्काल उसकी सूचना पुलिस को दे।
8- जब भी कैश का परिवहन किया जाता है तो उसे आम्र्ड गार्ड के साथ ही भेजा जाये किसी भी स्थिति में बिना आम्र्ड गार्ड के कैश को लाया या ले जाया न जाये।
9- प्राईवेट सुरक्षा गार्ड एंव रिकव्हरी एजेंट का पुलिस व्हैरिफिकेशन अवश्य करायें, साथ ही प्रशिक्षित सुरक्षा गार्ड लगाये।

ये थे उपस्थित
बैठक में नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली दीपक मिश्रा, नगर पुलिस अधीक्षक ओमती आर.डी. भारद्वाज, नगर पुलिस अधीक्षक गोरखपुर आलोक शर्मा, नगर पुलिस अधीक्षक कैंट श्रीमति भावना मरावी, नगर पुलिस अधीक्षक गढा तुषार सिंह , नगर पुलिस अधीक्षक अधारताल श्रीमति प्रियंका करचाम , थाना प्रभारी घमापुर दिलीप श्रीवास्तव, थाना प्रभारी मदनमहल नीरज वर्मा, थाना प्रभारी विजय नगर श्रीमति सोमा मलिक, थाना प्रभारी ग्वारीघाट विजय सिंह परस्ते, थाना प्रभारी सिविल लाईन श्री धीरज राज तथा जबलपुर जिले के रीजनल एवं जोनल बैंक मैनेजर सहित 49 बैंकों के मैनेजर उपस्थित थें।