प्रतापगढ़: पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत की जांच के लिए एसआईटी का गठन

शेयर करें:

प्रतापगढ़(जीतेन्द्र तिवारी )। प्रतापगढ़ के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में पुलिस अधीक्षक ने विशेष जांच दल (एसआईटी) का टीम का गठन कर दिया है. पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने मामले की जांच में तेजी लाने के लिए अपर पुलिस अधीक्षक (ईस्ट) सुरेंद्र द्विवेदी की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया है. एसआईटी की कमान अपर पुलिस अधीक्षक (पूर्वी) सुरेंद्र द्विवेदी के पास है, जबकि उनके साथ सीओ सिटी, सीओ लालगंज, इंस्पेक्टर लालगंज, इंस्पेक्टर विनीत मिश्र, इंस्पेक्टर संजीव कटियार और स्वाट इंचार्ज भी मामले की जांच में साथ निभाएंगे। यह टीम हर पहलु से मामले की जांच करेगी.

पत्रकारों के बयान दर्ज
पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव हत्या के मामले में पुलिस ने उन पत्रकारों के बयान भी दर्ज किए हैं, जो घटना के वक्त सुलभ के साथ मौजूद थे दूसरी ओर एफएसएल टीम भी बारीकी से मामले की छानबीन कर रही है. एफएसएल टीम द्वारा पूरी घटना का सीन रिक्रिएट भी किया जाएगा. मामले में एसपी आकाश तोमर ने बताया कि घटना से पहले सुलभ के साथ मौजूद पत्रकारों और घटनास्थल पर पहले पहुंचने वाले पत्रकारों के बयान दुर्घटना की ओर इशारा कर रहे हैं. हालांकि सभी एंगल से छानबीन जारी है. उन्होंने यह भी बताया कि मामले में दर्ज किए गए बयानों की पुष्टि के लिए मोबाइल फोन की जांच और फील्ड यूनिट विश्लेषण भी किया गया है.

एडीजी से हत्या की आशंका जताई थी
पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव शराब माफिय के खिलाफ अभियान में बेहद सक्रिय रूप से भूमिका निभा रहे थे. सुलभ श्रीवास्तव की बीते रविवार रात को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. उन्होंने अपनी मौत से दो दिन पहले ही अपनी हत्या की आशंका जता दी थी. उन्होंने एडीजी प्रयागराज जोन को इसको लेकर पत्र भी भेजा था और सुरक्षा की मांग की थी। इसके अगले ही दिन 13 जून को सुलभ कोतवाली के कटरा रोड पर ईंट भट्ठे के पास अर्धनग्न अवस्था में मिले थे. उनके सिर पर गहरे चोट के निशान थे. ये हादसा उस वक्त हुआ जब सुलभ क्राइम ब्रांच द्वारा अपराधियों को पकड़े जाने की खबर की कवरेज कर घर लौट रहे थे. घटना के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.