शेखर कपूर बने 65 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की केंद्रीय समिति के प्रमुख

शेयर करें:

मशहूर फिल्म निर्देशक शेखर कपूर को 65 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की केंद्रीय समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया है। केंद्र सरकार ने 65 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के लिए केंद्रीय पैनल का गठन किया है। इस पैनल में एक अध्यक्ष और 5 क्षेत्रीय अध्यक्षों सहित 11 सदस्य शामिल हैं।

केंद्र सरकार ने 65 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के लिए केंद्रीय पैनल का गठन किया है। इस पैनल में एक अध्यक्ष और 5 क्षेत्रीय अध्यक्षों सहित 11 सदस्य शामिल हैं। अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त निर्देशक शेखर कपूर को पैनल का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। 1994 में बैंडिट क्वीन फिल्म आई तो सभी ने शेखर कपूर का लोहा माना।

फिल्म को राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला। शेखर कपूर ऐसे निर्देशक रहे जिन्होने हॉलीवुड में भी अपनी धाक जमाई। 1998 में एलिजाबेथ एंड एलिजाबेथ के अलावा न्यूयॉर्क आई लव यू जैसी फिल्में भी खासी चर्चा में रहीं। शेखर कपूर के नाम कई बड़े अंतरराष्ट्रीय अवार्ड जीत चुके हैं।

पटकथा लेखक इम्तियाज हुसैन को दक्षिण का क्षेत्रीय पैनल एक का अध्यक्ष बनाया गया है। इम्तियाज अस्तित्व, अनर्थ, वास्तव और इस रात की सुबह जैसी फिल्मों से जुड़े रहे। बॉलीवुड पटकथा लेखक मेहबूब को दक्षिण का क्षेत्रीय पैनल द्वितिय का अध्यक्ष बनाया गया है। मेहबूब ने बॉम्बे, तक्षक, डोली सजा के रखना जैसी फिल्मो के लिए गाने लिखे हैं। तमिल फिल्म अभिनेत्री गौतमी तडिमल्ला को उत्तर पैनल की अध्यक्ष बनाया गया है।

गौतमी ने हिंदी, तमिल तेलूगू और मलयालम भाषायों की फिल्मों मे काम किया है। बॉलीवुड निर्देशक-निर्माता राहुल रवैल को पश्चिमी पैनल का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। राहुल ने लव स्टोरी, बेताब और डैकत जैसी कई हिट फिल्मों का निर्देशन किया है। कन्नड़ फिल्मों के निर्देशक पी. शेषाद्री को पूर्वी पैनल का अध्यक्ष बनाया गया है।

उन्होनें कई सफल कन्नड़ फिल्मों का निर्माण किया। शेषाद्री 9 राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके हैं। बंगाली और हिंदी फिल्म निर्देशक अनिरुद्ध रॉय चौधरी, नाटककार और निर्देशक प्रो. त्रिपुरारी शर्मा, लेखक अभिनेता रुमी जाफरी, निदेशक संपादक रणजीत दास, फिल्म निर्माता राजेश मापूसकर को सदस्य के तौर पैनल में शामिल किया गया है।