शहीद औरंगजेब के पिता का दर्द कहा- 72 घंटे की मोहलत देता हूं, वरना खुद लूंगा बदला

शेयर करें:

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में शहीद जवान औरंगजेब के घर पर गम का माहौल है. उनके पिता का कहना है कि पूरा घर ईद की तैयारी में लगा था. इसी बीच बेटे के अपहरण और फिर शहीद होने की खबर आई. उन्होंने कहा, मैं भी सिपाही हूं. 72 घंटे की मोहलत देता हूं, वरना खुद बदला लूंगा. उन्होंने कश्मीर के नेताओं पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, श्रीनगर में बैठे नेता चाहें वो किसी भी पार्टी के हों, वे लोगों को मरवा रहे हैं. इन नेताओं को कश्मीर से बाहर निकाला जाना चाहिए.

शहीद राइफलमैन औरंगजेब के पिता ने कहा, सोचा था बेटे और पूरे परिवार के साथ ईद मनाऊंगा. लेकिन जालिमों ने ऐसा होने नहीं दिया. उन्होंने कहा, साल 2003 से अब तक आंतक का सफाया क्यों नहीं हुआ. बुरा करने वाले भी तो मुसलमान ही हैं. जो बुरा करता है उसके साथ बुरा होता है. औरंगजेब का शहीद होना मेरा ही नुकसान नहीं है. ये पूरे कश्मीर का नुकसान है.

ईद से पहले घर में छाया मातम

ईद के त्योहार से पहले औरंगजेब की हत्या ने परिवार को तोड़ दिया है. ईद की तैयारियों में लगे परिवार में अब मातम ही मातम है. बता दें कि कश्मीर के शोपियां से गुरुवार सुबह ईद की छुट्टी पर घर जा रहे राइफलमैन औरंगजेब को पहले अगवा किया गया और बाद में आतंकियों ने हत्या कर दी. औरंगजेब का शव पुलवामा के गुसू इलाके से बरामद हुआ. उन्हें सुबह 9 बजे अगवा किया गया था. उनके शरीर पर गोलियों के कई निशान मिले हैं. औरंगजेब आतंकी समीर टाइगर को मारने वाली टीम में शामिल थे. उनकी हत्या सेना के लिए बड़ा झटका है जिसने ऑपरेशन ऑल आउट में अधिकतर टॉप आतंकियों को ढेर कर दिया है.

मौत से ठीक पहले की तस्वीर

औरंगजेब की मौत से ठीक पहले की तस्वीर सामने आई है. तस्वीर को देखकर साफ लग रहा है कि आतंकियों ने उन्हें बहुत टॉर्चर किया था. औरंगजेब के कपड़ों में मिट्टी लगी थी, जिससे लग रहा कि गोलियों से छलनी करने से पहले उन्हें आतंकियों ने पीटा भी था.

इस तरह वारदा को अंजाम दिया
ईद से ठीक दो दिन पहले जम्मू कश्मीर के लिए गुरुवार का दिन बेहद अशुभ रहा. शाम को आतंकियों ने श्रीनगर की प्रेस कॉलोनी में राइजिंग कश्मीर के एडिटर शुजात बुखारी की भी गोली मारकर हत्या कर दी. वह इफ्तार पार्टी के लिए कहीं रवाना हो रहे थे तभी हमलावरों ने उनकी गाड़ी घेरकर गोलियों की बौछार कर दी. हमले में उनके दो पीएसओ भी मारे गए. जब लोग इस सदमे में डूबे हुए थे तभी औरंगजेब की खबर आई कि उनका शव पुलवामा में बरामद हुआ है. इस तरह एक दिन में दो बड़े झटके लगे वो भी तब जब एक दिन बाद शुक्रवार को ईद मनाई जाएगी.

समीर टाइगर को मारने वाली टीम में थे
बता दें कि इसी साल अप्रैल महीने में आतंकी समीर टाइगर को सेना ने मार गिराया था. जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों और पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में उसे ढेर किया था. हिज्बुल मुजाहिद्दीन कमांडर समीर टाइगर सेना की हिटलिस्ट में लंबे समय से था. मुठभेड़ में उसका एक साथी भी ढेर हुआ था.

कश्मीर में हुई आतंकी वारदातों के बीच आज सुरक्षा हालात पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर बैठक हुई. बैठक में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के अलावा आर्मी चीफ, IB चीफ, गृह सचिव, अर्धसैनिक बलों के चीफ़,जम्मू कश्मीर पुलिस के अधिकारियों के साथ साथ गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी शामिल हुए. सूत्रों के मुताबिक़ सस्पेंसन ऑफ़ रेशन (सीजफायर) पर आखिरी फैसला सरकार ईद यानी 16 जून के बाद ले सकती है.

रमजान के दौरान सीजफायर के एलान के बाद 29 दिनों में 59 छोटी-बड़ी आतंकी वारदातें हुई है. वहीं रमजान से पहले 29 दिनों में 19 हमले हुए थे. सीजफायर की घोषणआ के बाद ग्रेनेड हमले में चार गुना बढ़ोतरी हुई है. रमजान के दौरान आतंकियों ने 20 ग्रेनेड हमले किये.