सिंधिया परिवार ललकार का जवाब देना जानता है : ज्योतिरादित्य

शेयर करें:

भोपाल। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कभी अपने धुर विरोधी रहे शिवराज सिंह चौहान की जमकर तारीफ की है। भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद पहली बार भोपाल के बीजेपी प्रदेश कार्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि शिवराज कभी न थकने वाले नेता हैं।

इस मौके पर उन्होने कहा कि आज मैं बहुत भावुक हूं, जिस जिस संगठन और जिस परिवार में मैंने 20 साल बिताए, मेरी मेहनत लगन, संकल्प जिनके लिए खर्च किया, उन सबको छोड़कर मैं अपने आपको आपके हवाले करता हूं। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कुछ लोगों का मकसद राजनीति होती है, माध्यम जनसेवा होती है. लेकिन यह मैं दावे से कह सकता हूं कि अटल बिहारी वाजपेयी हों, नरेंद्र मोदी हों, राजमाता रही हों, या सिंधिया परिवार का वर्तमान मुखिया होने के नाते मैं, हमारा मकसद हमेशा जनसेवा रहा है।

शिवराज की जमकर तारीफ

बुधवार को शिवराज सिंह चौहान न कहा था कि अब महाराज और शिवराज एक है और आज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उसी बात को दोहराते हुए कहा कि अब शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया एक हैं। एक और एक मिलकर दो नहीं ग्यारह होना चाहिये। उन्होने कहा कि प्रदेश में दो ही नेता ऐसे रहे हैं जिन्होने कभी अपनी गाड़ी में एसी नहीं चलाया, उनमें एक शिवराज है दूसरा सिंधिया। सिंधिया ने इस अवसर पर कहा कि मैं सदैव मध्यप्रदेश की जनता की सेवा करना चाहता हूं और मेरा लक्ष्य अब प्रदेश की जनता का साथ और सहयोग पाना है।

सिंधिया परिवार ललकार का जवाब देना जानता है

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस अवसर पर बिना कांग्रेस का नाम लिया कहा कि जो सही है, वह सिंधिया परिवार का मुखिया सदैव बोलता है। यह मैं बता हूं कि एक बार सिंधिया की मुखिया को ललकारा था 1967 में, मेरी दादी को, संविद सरकार में क्या हुआ? 1990 में मेरे पूज्य पिता के ऊपर झूठा हवाला कांड किया, उस समय क्या हुआ? और आज जब मैंने अतिथि विद्वानों और किसानों की बात उठाई और मंदसौर में किसानों के ऊपर केस लगी, जो आवाज मैंने उठाई, और मैंने कहा कि जो वचनपत्र में है, उसे पूरा नहीं किया गया तो उसके लिए सड़क पर उतरना होगा। सिंधिया परिवार सत्य के पथ पर चलता है, मूल्य पर चलता है, सिंधिया परिवार को जब ललकारा जाता है तो सिंधिया परिवार जग से भी लड़ सकता है। हालांकि ज्योतिरादित्य ने कांग्रेस का जिक्र नहीं किया, लेकिन उन्होने साफ इशारा कर दिया कि उन्होने अपने को ललकारने वालों को कड़ा जवाब दिया है।

सिंधिया का भव्य स्वागत

इससे पहले बीजेपी में शामिल होने के बाद पहली बार भोपाल पहुंचने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया का एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत हुआ। हज़ारों लोगों ने उनका स्वागत करते हुए उनपर फूलों की बारिश कर दी। एयरपोर्ट से भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचने में उन्हें करीब दो घंटे का समय लग गया। भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचने पर भी सिंधिया का ढोल नगाड़ों से स्वागत किया गया। यहां सबसे पहले सिंधिया ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय, राजमाता विजयराजे सिंधिया, माधवराव सिंधिया और कुशाभाऊ ठाकरे की तस्वीर पर माल्यार्पण किया। यहां दिल्ली से सिंधिया के साथ आए नरेंद्र सिंह तोमर, वीडी शर्मा, शिवराज सिंह चौहान, नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव सहित कई बड़े नेता और सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।