आपदा प्रबंधन केन्द्र स्थापित करने में रूस भारत की मदद करेगा

शेयर करें:

आपदा और अन्य आपात स्थितियों से निपटने के लिए भारत में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन केन्द्र की स्थापना करने में रूस मदद करेगा।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह और आपात सेवा मामलों के रूसी मंत्री व्लादिमीर पुचकोव के बीच आज यहां एक बैठक के दौरान यह सहमति बनी। एक आधिकारिक बयान के अनुसार दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि रूसी ‘एमरकोम’ भारत में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन केन्द्र (एनसीएमसी) की स्थापना करने में भारत का सहयोग करेगा।

सिंह ने आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में सहयोग पर पुचकोव के साथ विस्तृत विचार-विमर्श किया। उन्होंने वर्ष 2010 में आपदा प्रबंधन के संबंध में हुए एक समझौते की प्रगति की भी समीक्षा की। बयान के अनुसार दोनों नेता विशेषज्ञों के प्रशिक्षण के एक कार्यक्रम और आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में एक-दूसरे से अनुभव साझा करने पर भी सहमत हुए।

इसके बाद दोनों नेताओं ने आपदा प्रबंधन में सहयोग के लिए वर्ष 2018-19 के लिए एक संयुक्त कार्यान्वयन योजना पर भी हस्ताक्षर किये। सिंह ने कल रूसी संघ की सुरक्षा परिषद के सचिव निकोलाई पात्रोशेव से भी मुलाकात की थी। बैठक के दौरान दोनों पक्षों ने सुरक्षा के क्षेत्र और आतंकवाद का मुकाबला करने में सहयोग को और मजबूत करने पर प्रतिबद्धता जतायी। उन्होंने अक्तूबर 2016 में किये गये सूचना सुरक्षा के समझौते के कार्यान्वयन की भी समीक्षा की।

दोनों पक्षों ने दो राष्ट्रीय सुरक्षा परिषदों के बीच चल रहे सहयोग और यात्राओं के नियमित रूप से आदान-प्रदान का भी स्वागत किया। रूस की अपनी तीन दिवसीय यात्रा के दौरान सिंह रूसी संघ के संघीय सुरक्षा सेवा के निदेशक एलेक्सजेंडर बोर्तनीकोव से बातचीत करेंगे। इसके बाद वह भारतीय समुदाय द्वारा आयोजित एक स्वागत समारोह में भी शामिल होंगे।