इन 6 राज्यों में नवरात्र और रमजान को लेकर क्या हैं नियम? आइए जानते हैं

शेयर करें:

पूरे देश में तेजी से फैले कोरोना संकट के बीच नवरात्र और रमजान का पर्व मनाया जाएगा. हालांकि इस बार इन त्यौहारों पर राज्य सरकारें ज्यादा ढील देने के पक्ष में नहीं दिख रही हैं. उत्तर प्रदेश से लेकर महाराष्ट्र तक कई राज्यों में नवरात्र और रमजान को लेकर सख्त नियम (Corona Guidelines for Navratri and Ramadan) बनाए गए हैं.

दरअसल देश भर में लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में कुछ दिनों में रमजान (Ramadan 2021) का महीना भी शुरू हो जाएगा हालांकि इसको लेकर तमाम इमाम बैठकें कर रहे हैं और इस बात की अपील कर रहे हैं कि सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस को फॉलो किया जाए. वहीं दूसरी तरफ नवरात्र (Navratri 2021) का पावन पर्व भी 14 अप्रैल से शुरू हो रहा है. ऐसे में सरकारों के सामने कोरोना नियमों का पालन कराना एक चुनौती बना हुआ है.

आइए जानते हैं कि किन राज्यों में नवरात्र और रमजान को लेकर क्या नियम हैं?

उत्तर प्रदेश में नवरात्र और रमजान को लेकर क्या नियम हैं?
उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने सभी धार्मिक स्थलों पर एक बार में केवल 5 लोगों को ही प्रवेश देने का फैसला किया है. मंगलवार से नवरात्रि का त्योहार और बुधवार से रमजान का महीना शुरू होने जा रहा है. इसके अलावा प्रसाद बांटने और पवित्र जल के छिड़काव पर भी प्रतिबंध रहेगा.

दिल्ली में क्या हैं नवरात्र और रमजान को लेकर नियम हैं?
दिल्ली ने रविवार को कोरोना संबंधी नई पाबंदियों की घोषणा की थी. इसके मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में सभी तरह के धार्मिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक और सांस्कृतिक समारोहों पर प्रतिबंध लगा है. यानी किसी भी त्योहार पर समारोह का आयोजन या भीड़ जुटाने पर पाबंदी है.

क्या महाराष्ट्र में नवरात्र और रमजान के समय लग जाएगा लॉकडाउन?
क्या महाराष्ट्र में नवरात्र और रमजान के समय लग जाएगा लॉकडाउन? ऐसा होना संभव है. दरअसल महाराष्ट्र के एक मंत्री ने रविवार को कहा था कि मुख्यमंत्री की टास्क फोर्स के साथ बैठक के बाद सभी लॉकडाउन लगाने के पक्ष में दिखे. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि महाराष्ट्र में लॉकडाउन 14 अप्रैल के बाद लगाया जा सकता है. कोरोना संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने जारी गाइडलाइंस में कहा है कि मंदिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों समेत तमाम धार्मिक स्थल बंद रहेंगे. हालांकि, वहां के महंत, पुजारी, मौलाना, ग्रंथी आदि सामान्य पूजा-पाठ कर सकेंगे.

क्या मध्य प्रदेश में नवरात्र और रमजान के समय मंदिर मस्जिद खुले रहेंगे?
गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के 11 जिलों में पहले से ही पूर्ण लॉकडाउन लगा हुआ है जोकि 19 अप्रैल तक रहेगा. इसका मतलब है कि इन जिलों में धार्मिक स्थलों को भी बंद रखा गया है. इसके अलावा राजधानी भोपाल में भी धार्मिक स्थलों को बंद रखा गया है. वहां पुजारी, मौलाना और ग्रंथी मंदिरों, मस्जिदों और गुरुद्वारों में रुटीन पूजा-पाठ करते रहेंगे.

बिहार में नवरात्र और रमजान के समय मंदिर मस्जिद खुले रहेंगे?

बिहार में स्कूल -कॉलेज बंद हैं. इसके अलावा नीतीश सरकार ने बिहार में 30 अप्रैल तक सभी धर्मस्थल भी बंद करने का फैसला किया है. वहां किसी प्रकार के धार्मिक समारोह की भी अनुमति नहीं है.

राजस्थान में नवरात्र और रमजान के समय मंदिर मस्जिद खुले रहेंगे?
वैसे राजस्थान उन राज्यों में से है जहां अभी तक सरकार ने त्योहारों, धार्मिक आयोजनों, मेलों पर पाबंदी नहीं लगाई है. लेकिन राज्य में कोरोना के मामले तेजी से फैल रहे हैं. हालांकि राज्य में सरकार ने कहा है कि राजस्थान में अगर किसी को धार्मिक समारोह का हिस्सा बनना है तो उसे आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट देना होगा.