Skip to content

9000 पन्नों का जवाब लेने के लिए बैलगाड़ी से नगर परिषद के कार्यालय पहुंचा आरटीआई कार्यकर्ता

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:

शिवपुरी: मध्य प्रदेश में सूचना का अधिकार (RTI) कार्यकर्ता माखन धाकड़ बैराड़ नगर परिषद से नौ हजार पन्नों का जवाब लेने के लिए बैलगाड़ी से उसके कार्यालय पहुंचे. शिवपुरी जिले में बैराड़ कस्बे में रहने वाले धाकड़ को दो महीने के संघर्ष और 25 हजार रुपये का भुगतान करने के बाद जब प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के बारे में जवाब प्राप्त करने के वास्ते नगर परिषद के कार्यालय बुलाया गया तो वह उत्साहित हो गए और बैलगाड़ी पर सवार होकर बैंड बाजे के साथ उसके दफ्तर पहुंचे.

धाकड़ ने आरटीआई के तहत आवेदन दायर कर पीएमएवाई के संबंध में जानकारी मांगी थी. इस तरह बैलगाड़ी पर बैंड बाजे के साथ परिषद कार्यालय जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है. पत्रकारों से बात करते हुए धाकड़ ने कहा कि उन्होंने लगभग दो महीने पहले पीएमएवाई के बारे में जानकारी मांगने के लिए एक आवेदन दायर किया था लेकिन बैराड़ के स्थानीय निकाय ने इस बाबत सूचना देने से इनकार कर दिया था. उन्होंने कहा कि उन्हें नगर निकाय ने 25 हजार रुपये का भुगतान करने के लिए कहा था लेकिन भुगतान के बावजूद उन्हें जानकारी प्रदान नहीं की गई. धाकड़ ने कहा कि इसके बाद उन्होंने ग्वालियर में उच्च अधिकारी के समक्ष अपील दायर की जिसने नगर निकाय को उन्हें जानकारी प्रदान करने का आदेश दिया.

आरटीआई कार्यकर्ता ने दावा किया कि उन्होंने अपने परिचितों से कर्ज लेकर पैसे की व्यवस्था की थी. उन्होंने कहा कि जब उन्हें बताया गया कि जो जानकारी उन्होंने मांगी थी वह नौ हजार पन्नों की है और तैयार है, तो उन्होंने बैलगाड़ी पर सवार होकर और बैंड बाजे के साथ इस मौके को मनाने का निर्णय लिया. उन्होंने कहा कि उन्हें और उनके चार दोस्तों को पन्नें गिनने में दो घंटे लगे. इस बारे में पूछे जाने पर बैराड़ नगर परिषद के मुख्य नगर पालिका अधिकारी जेएन पारा ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि धाकड़ के शुल्क जमा करने के बाद ही नगर निकाय ने उन्हें जानकारी दी. उन्होंने कहा कि चार कर्मचारियों को काम सौंपा गया और कार्यकर्ता द्वारा मांगे गए सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी की व्यवस्था करने में पांच दिन लग गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर सरकार प्रतिबंध क्यों लगा रही है? दुनिया के सबसे गंदे इंसान’ अमो हाजी की 94 वर्ष की आयु में मृत्यु अनहोनी के डर से इस गांव में सदियों से नहीं मनाई गई दिवाली धनतेरस के दिन क्यों खरीदते हैं सोना-चांदी और बर्तन? पुराने डीजल या पेट्रोल वाहनों को रेट्रोफिटिंग करवाने से क्या होगा ?