आरपीएफ की महिला यात्री,सुरक्षा को लेकर नया कदम

शेयर करें:

जबलपुर @ महिला यात्रियों के साथ ट्रेन हो या प्लेटफार्म इन सभी जगह हो रहे अन्याय और अपराध पर अंकुश लगाने आरपीएफ ने एक अच्छी पहल की शुरूआत की है। आईजी आर.के. मलिक के निर्देशन पर कमांडेंट अनिल भालेराव ने आज से मंडल रेल क्षेत्र के सभी स्टेशनों पर एक सप्ताह तक महिला सुरक्षा कर्मियों को तैनात करते हुए महिलाओं की सुरक्षा मजबूत की है। तैनात महिलाएं कार्य के समय महिला यात्रियों से उनकी समस्या सुनेंगी और उसका निराकरण भी करेंगी। ट्रेनों में पेट्रोलिंग के समय यात्रियों से सुरक्षा संबंधी जानकारी ली जायेगी।

आज मुख्य स्टेशन पर आईजी और कमांडेंट की उपस्थिति में महिला सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया है। इनका कार्य प्लेटफॉर्म पर उपस्थित महिला यात्रियों को सुरक्षा से संबंधित जानकारी देना है। बिना वजह जंजीर खींचना, सफर के दौरान बैठने को लेकर वाद-विवाद करना, अनाधिकृत रूप से आरक्षित कोच में सवार होकर जबरदस्ती सफ़र करना, व अपने साथ अवैध रूप से सामान आदि लाना ले जाना।

आरपीएफ ने मुख्य रेलवे स्टेशन से चलने और गुजरने वाली ट्रेनों में महिला कर्मियों को पेट्रोलिंग के लिए तैनात किया है। इस तरह के कार्य करना अपराध की श्रेणी में आता है। इस कारण यात्रियों के लिए आरपीएफ ने 14 से 21 मार्च तक जागरूकता अभियान शुरु किया है।

यात्रियों को यात्रा के समय हो रही परेशानी को देखते हुए रेलवे हेल्प लाइन नं. 182 का उपयोग किस तरह से करना है इन सब बातों से अवगत कराना और ये सुझाव कैसे लगे इसके लिए फीडबैक फार्म भी भरवाए जा रहे हैं। जबलपुर से नरसिंहपुर, पिपरिया, इटारसी, कटनी, रीवा, सतना, दमोह, सागर, ब्यौहारी, सिंगरौली तक पेट्रोलिग कर रही महिला कर्मी कार्य के समय महिला यात्रियों की कोई भी समस्या पर मदद करती नज़र आएँगी।