रोहिंग्या की तुलना अन्य शरणार्थियों से नहीं : केंद्र

शेयर करें:

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि रोहिंग्या लोगों को वापस म्यामां भेजने के सरकार के आदेश को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर 13 अक्तूबर को सुनवाई की जायेगी।

अदालत ने कहा कि वह सिर्फ कानूनी बिन्दुओं पर ही बहस सुनेगी। कोर्ट ने केन्द्र और याचिका दायर करने वाले रोहिंग्या शरणार्थियों से कहा कि वे न्यायालय की मदद के लिये सारे दस्तावेज और अंतरराष्ट्रीय समझौतों का विवरण तैयार करके दाखिल करें। अदालत ने कहा कि सरकार के रूख सहित इस मामले से जुडे विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से सुनवाई की जायेगी।