ऋषिकेश: गाइडलाइन पर खरा न उतरने के कारण NGT ने लगाई 20 कैंपिंग साइट पर रोक

शेयर करें:

देहरादून: ऋषिकेश में अब केवल पांच साइट में रॉफ्टिंग के लिए कैंपिंग हो सकेगी। इस क्षेत्र में 25 में 20 साइट को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की गाइडलाइन पर खरा न उतरने के कारण रद्द कर दिया गया है। जिन पांच साइटों को कैंपिंग के लिए उपयुक्त पाया गया, उन्हें इको टूरिज्म विकास निगम के जरिये विकसित किया जाएगा।

गंगा में राफ्टिंग और कैंपिंग के ऋषिकेश तक लगभग 40 किमी के फासले में कैंपिंग की बाढ़ सी आ गई थी। इस पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने फैसला लिया और दिसंबर 2015 में कैंपिंग पर रोक लगा दी।

इसके बाद 25 साइट को कुछ शर्तों के साथ कैंपिंग से छूट दी गई। इस बीच एनजीटी ने गाइडलाइन जारी की, जिसके मुताबिक गंगा से 100 मीटर के दायरे में किसी भी प्रकार की कैंपिंग नहीं होगी।

इको टूरिज्म विकास निगम के प्रबंध निदेशक अनूप मलिक के मुताबिक 25 साइट में से सात को वन्यजीवन में खलल के मद्देनजर वन्यजीव विभाग ने रद कर दिया, जबकि 13 साइट को गंगा से 100 मीटर के दायरे में आने के कारण रद कर दिया गया।