योगी सरकार की ‘अभ्युदय’ योजना के पंजीकरण शुरू, बसंत पंचमी से होगी पढ़ाई, प्रतियोगी परीक्षाओं की होगी निःशुल्क तैयारी

शेयर करें:

लखनऊ. यदि आप सिविल सेवा (Civil Services), JEE, नेट, बैंकिंग, टीईटी के तैयारी करना चाहते हैं और कोचिंग के भारी-भरकम फीस के कारण वहां नहीं जा पाते हैं, तो यह खबर आपके लिए खास है. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की शुरू की गई. ‘मुख्यमंत्री अभिनव योजना’ के तहत सिविल सेवा निजी बैंकिंग टीटी के अभ्यर्थियों के लिए स्तरीय कोचिंग की सुविधा दिलाने के लिए पंजीकरण शुरू कर दिया गया है. अब प्रदेश के किसी भी अभ्यर्थी को इन परीक्षाओं की तैयारी के लिए इधर-उधर भागना नहीं पड़ेगा, हर एक छात्र इस योजना का लाभ ले सकता है.

बता दें कि बसंत पंचमी से अभ्युदय कोचिंग में पठन-पाठन का कार्य शुरू कर दिया जाएगा. इस कोचिंग में ऑनलाइन ऑफलाइन मोड में पढ़ाई होगी तथा मंडल स्तर पर यह अभ्युदय कोचिंग सेंटर खोले जाएंगे, जिनमें आईएएस, पीसीएस अधिकारी नि:शुल्क कोचिंग अभ्यर्थियों को देंगे. अभ्यर्थियों को abhyuday.up.gov.in पर पंजीकरण करना होगा. बता दें कि 15 फरवरी को सीएम योगी पंजीकृत अभ्यर्थियों के साथ संवाद भी कर सकते हैं.

बता दें कि इस कोचिंग में ऑनलाइन स्टडी मटेरियल और लेक्चर उपलब्ध होंगे. साथ ही ऑफलाइन क्लासेस में आईएएस और पीसीएस परीक्षा के लिए प्रशिक्षु आईएएस आईपीएस आईएफएस अधिकारी छात्रों को कोचिंग लेंगे. जबकि एनडीए और सीडीएस की परीक्षा के लिए सैनिक स्कूल के द्वारा छात्रों को तैयारी करवाई जाएगी. साथ ही बैंक, पीओ, एसएससी और टीईटी जैसी परीक्षाओं के लिए भी इस कोचिंग में कक्षाएं चलेंगी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि इस कोचिंग में पहले मंडल स्तर पर कक्षाएं शुरू की जाएंगी. उसके बाद जिलों में भी यह कक्षाएं शुरू कर दी जाएंगी. इस दौरान विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए प्रदेश सरकार क्वेश्चन बैंक, प्रश्नोत्तरी आदि तैयार करके वेबसाइट पर छात्रों को उपलब्ध करवाएगी. इस दौरान छात्रों को ई लर्निंग प्लेटफॉर्म पर भी कंटेंट उपलब्ध करवाया जाएगा.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अभ्युदय कोचिंग रजिस्ट्रेशन को लेकर ट्वीट कर कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग के लिए पंजीकरण प्रक्रिया आज से प्रारंभ हो रही है. उत्तर प्रदेश के प्रतिभाशाली नौजवानों के लिए अपनी प्रतिभा को स्थापित करने का मंच मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना होगी. प्रदेश सरकार का यह प्रयास युवाओं के लिए वरदान सिद्ध होगा.