’मिल-बाचें’ अभियान में राज्यमंत्री पाठक ने कराया पंजीयन

शेयर करें:

कटनी@ प्रदेश में शासकीय प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों में पढ़ाई के प्रति रूचि जागृत करने के मकसद से स्कूल शिक्षा विभाग 26 अगस्त को प्रदेशव्यापी ’मिले-बाँचे’ कार्यक्रम आयोजित करने जा रहा है। प्रदेश सरकार इस अभिनव अभियान से राज्य के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग राज्यमंत्री संजय सत्येन्द्र पाठक भी जुड़े। उन्होनें विजयराघवगढ़ विकासखण्ड की ग्राम हदरहटा माध्यमिक शाला और माध्यमिक शाला हथेड़ा में बतौर वॉलियंटियर अपना पंजीयन कराया है। वे 26 अगस्त को दोनों ही विद्यालयों में पहुंचकर विद्यार्थियों से अपने अनुभव साझा करेंगे। साथ ही उन्हें निष्ठा से अध्ययन कर गांव, प्रदेश और देश का नाम रोशन करने के लिये प्रेरित भी करेंगे।

इस अभियान की पहली कड़ी में 18 फरवरी को राज्यमंत्री पाठक ने माध्यमिक शाला मुडेहरा में विद्यार्थियों से सीधा संवाद किया था।जीवन में सफलता पाने के लिये शिक्षा आवश्यक है और इसकी नींव स्कूली शिक्षा मानी जाती है। भाषा ज्ञान बच्चों में न केवल आधारभूत कौशल का विकास करता है, बल्कि यह अन्य विषयों की समझ एवं रूचि विकास करने में भी सहायक है। इसलिए यह आवश्यक है कि प्रारंभिक स्तर पर दी जा रही शिक्षा में भाषा ज्ञान सहजता से प्राप्त हो ताकि बच्चे आसानी से अपनी बात और भावों को अभिव्यक्त कर सके। साथ ही बच्चों में पाठयक्रम की पुस्तकों के अलावा अन्य पुस्तकों को पढ़ने एवं समझने की रूचि विकसित हो, इसके लिये ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर 26 अगस्त को सभी सरकारी शालाओं में इस अभियान का आयोजन किया जा रहा है।कार्यक्रम में जन-प्रतिनिधि या इच्छुक व्यक्ति अपनी इच्छा के स्कूल में पहुँचकर हिन्दी पाठय-पुस्तक अथवा शाला पुस्तकालय में से उपलब्ध रूचिकर पुस्तकों में से किसी एक पुस्तक के एक पाठ को बच्चों को पढ़कर सुनायेंगे। बच्चों को जीवन में सफलता पाने के लिये शिक्षा क्यों आवश्यक है, इस संबंध में समझाईश भी दी जायेगी।