एक खरीदी केन्द्र पर एक दिन में 6 किसानों से दो पाली में होगी खरीदी

शेयर करें:

प्रात: 10 बजे से दोपहर 1.30 बजे और दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक,1925 रूपए प्रति क्विंटल की दर पर होगी गेहूं की खरीदी

जबलपुर। जिले में रबी विपणन वर्ष 2020-21 के अंतर्गत किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी बुधवार 15 अप्रैल से प्रारंभ होगी। इस बार राज्य सरकार द्वारा निर्धारित गेहूं के समर्थन मूल्य 1925 रूपए प्रति क्विंटल की दर से खरीदी होगी। कलेक्टर भरत यादव ने किसानों से आग्रह किया है कि वे उनको भेजे गए एसएमएस में बताई गई तारीख एवं पाली पर ही अपनी उपज लेकर खरीदी केन्द्र पहुंचें। एक खरीदी केन्द्र पर एक दिन में केवल 6 किसानों को उनकी उपज बेचने के लिए मैसेज किया जाएगा।

कलेक्टर श्री यादव ने बताया कि जिले के किसानों को एसएमएस भेजकर उनकी उपज की खरीदी की समय और तारीख की जानकारी प्रदान की जा रही है। कोरोना वायरस की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के उद्देश्य से खरीदी केन्द्र पर एक दिन में केवल छह किसानों को उनकी उपज बेचने के लिए मैसेज किए जाएंगे। खरीदी केन्द्र में गेहूं की तुलाई दो पाली में की जाएगी। प्रथम पाली के लिए सुबह 10 बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक तथा दूसरी पाली दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक जारी रहेगी। एक पारी में केवल तीन किसानों की उपज की तौल की जाएगी। लेकिन यदि कोई किसान किसी कारणवश निर्धारित तिथि के मैसेज पर खरीदी केन्द्र नहीं पहुंच पाता है, तो उन्हें बाद में पुन: अवसर प्रदान किया जाएगा।

गेंहू खरीदी केन्द्रो की लिस्ट यहाँ देखें

कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम और तय मानदण्डों की दृष्टि से इस बार जिले में 153 गेहूं खरीदी केन्द्र बनाए गए हैं। जरूरत महसूस होने पर इनकी संख्या और बढ़ा दी जाएगी। ताकि खरीदी केन्द्रों पर ज्यादा लोग एक साथ एकत्र न हों सकें और सभी जरूरी सावधानियां बरती जा सकें।

खरीदी केन्द्र पर कोरोना गाइड लाइन का पालन

कलेक्टर श्री यादव ने अफसरों को निर्देशित किया है कि खरीदी केन्द्रों पर किसानों के साथ-साथ कार्यरत कर्मचारियों से भी कोरोना गाइड लाइन के अनुसार कार्यवाही कराना सुनिश्चित करें। गेहूं के परीक्षण, तौल पर्ची एवं बिल जारी करने वाले कर्मचारियों के पास भी एक से अधिक कृषक उपस्थित न हों, इसके लिए काउंटर के सामने तीन-तीन मीटर की दूरी पर चूने के गोले बनाए जाएं। खरीदी केन्द्रों पर किसानों को अपने साथ वृद्धजनों-बच्चों और अस्वस्थ लोगों को लाने की अनुमति नहीं होगी। कलेक्टर ने स्पष्ट निर्देशित किया है कि जिन किसानों को खरीदी केन्द्र पर उपज लाने के लिए एसएमएस जाएगा केवल उन्हीं किसानों को लॉकडाउन की अवधि में खरीदी केंद्र तक आने और जाने की अनुमति रहेगी। यथासंभव वृद्ध एवं बीमार कृषकों को खरीदी केन्द्रों पर उपस्थित होने से बचाने के लिए उनके द्वारा नामित व्यक्ति के माध्यम से उनकी उपज की विक्रय की व्यस्था कराने को कहा गया है। इसके बाद भी यदि ऐसे कृषक खरीदी केंद्र पहुंचते हैं तो उन्हें सर्वोच्च प्राथमिकता देकर उनकी उपज की तुलाई कराई जाए।

मॉस्क, सेनेटाइजर व साबुन की व्यवस्था

कलेक्टर श्री यादव ने उपार्जन केन्द्रों के आवक गेट पर बेरियर लगाने तथा खरीदी केन्द्र परिसर के भीतर किसानों को तभी प्रवेश देने के निर्देश दिए हैं, जब वे फेस मॉस्क पहनकर या चेहरे को गमछे से ढंक कर आए हों। फिर भी केन्द्र में मॉस्क, हैण्ड सेनेटाइजर व हाथ धोने के साबुन की व्यवस्था होनी चाहिए। टोंटी लगी पानी की टंकी का भी इंतजाम हो और हर दो घंटे में केंद्र पर मौजूद किसानों, हम्मालों एवं कर्मचारियों से कम से कम 20 सेकेण्ड तक हाथ धुलवाया जाए।

पर्याप्त तौलकांटे व हम्माल रहें

हर खरीदी केन्द्र में पर्याप्त संख्या में तौल-कांटा एवं हम्माल की उपलब्धता सुनिश्चित होनी चाहिए । ताकि किसानों को उपज की तौल के लिए इंतजार न करना पड़े । सोशल डिस्टेंसिंग हर हाल में बनी रहे इसके लिए हर समय हर व्यक्ति 3 मीटर की सुरक्षित दूरी बनाकर रखें ।

खरीदी केन्द्रों में नोडल अधिकारी तैनात:

कलेक्टर भरत यादव ने उपार्जन केन्द्रों पर गेहूं की एफएक्यू गुणवत्ता का निर्धारण, उपार्जित गेहूं का परिवहन एवं उपार्जन केन्द्रों पर आने वाली समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिए हर खरीदी केन्द्र के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त कर दिया है ।

गेहूं खरीदी की दर 1925 रूपए प्रति क्विंटल तय

राज्य सरकार ने इस बार गेहूं का समर्थन मूल्य 1925 रूपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया है।

सीएम हेल्पलाइन 181 पर करें संपर्क

गेहूं खरीदी के संबंध में हर केन्द्र के लिए तैनात नोडल अधिकारी सहित सीएम हेल्पलाइन के नंबर 181 पर उपार्जन से संबंधित कोई भी शिकायत या समस्या दर्ज कराई जा सकती है।