वाराणसीः अखिल भारतीय संत सम्मेलन में देश और समाज की समस्याओं के साथ राम मंदिर निर्माण पर होगी चर्चा

शेयर करें:

वाराणसी. अखिल भारतीय संत सम्मेलन का आयोजन दुर्गाकुंड स्थित हनुमान प्रसाद पोद्दार अंध विद्यालय में हुई. यहां पर देशभर के संतों का जमावड़ा हुआ. दो दिन तक चलने वाले इस संत सम्मेलन में संत समाज, देश और समाज की विभिन्न समस्याओं पर विचार-विमर्श होगा. इसके अलावा अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर निर्माण के संबंध में भी चर्चा होगी.

महंत बालक दास का कहना है कि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए धन संकलन अभियान पर देश भर के संत मंथन करेंगे. हिंदू राष्ट्र नेपाल से खराब हो रहे रिश्तों, नेपाल की राजधानी काठमांडू और भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी, जनकपुर और अयोध्या के मध्य वर्षों के रिश्तों की प्रगाढ़ता को मजबूत करने पर विचार होगा. संत सम्मेलन में राष्ट्रीय अध्यक्ष अविचल दास महाराज समेत संत समिति के सर्वोच्च निदेशक मंडल के संत हिस्सा लेंगे. जबकि अस्वस्थ होने के कारण महंत नृत्यगोपाल दास नहीं आएंगे.

बैठक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक अनिल, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महासचिव चंपत राय, विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय मंत्री अशोक तिवारी, श्री काशी विद्वत परिषद के अध्यक्ष आचार्य रामयत्न शुक्ला हिस्सा लेंगे. सम्मेलन में शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती, महंत फूलडोल बिहारीदास, स्वामी धर्मदेव, महंत कमलनयन दास, आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरि, महामंडलेश्वर अनंतदेव गिरि, स्वामी देवेंद्रानंद गिरि, कालिका पीठाधीश्वर महंत सुरेंद्रनाथ अवधूत, महामंडलेश्वर जनार्दन हरि, स्वामी हंसानंद तीर्थ, महामंडलेश्वर स्वामी मनमोहनदास, ब्रह्मर्षि अंजनेशानंद सरस्वती, स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती, स्वामी दिव्यानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर ज्योतिर्मयानंद गिरि, महामंडलेश्वर ईश्वरदास, शक्ति शांतानंद महर्षि, गौरीशंकर दास हिस्सा लेंगे.