UP में कैदियों ने पैरोल लेने से किया मना कहा – साहब! हमें जेल में ही रहने दो, हम यहां ज्यादा सुरक्षित हैं

शेयर करें:

लखनऊ. कई बार देखा जाता है कि जेल में बंद होने के बाद कह दी खुद को बाहर निकालने के लिए तमाम तरीके अपनाते हैं. संवैधानिक तरीके से बंदी खुद को जेल से बाहर निकालने के लिए जुट जाते हैं. वहीं प्रदेश की राजधानी लखनऊ के जेल से एक ऐसा मामला सामने आया है जहां 21 बंदियों ने पैरोल लेने से मना कर दिया है. ये सभी बंदी पैरोल के पात्र थे, पर उन्होंने कहा कि इन्हें रिहाई नहीं चाहिए. कैदियों ने कहा कि वो जेल में ही ज्यादा सुरक्षित हैं.

दरअसल शासन द्वारा जेलों में कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका को देखते हुए जेल से बंदियों को अंतरिम जमानत और सजायाफ्ता कैदियों को 60 दिनों की पैरोल पर छोड़ा जा रहा है. जिसको देखते हुए प्रदेश के कई जिलों से बंदियों को पैरोल पर छोड़ा जा रहा था. ऐसे में 9 जिलों के 21 कैदियों को पैरोल के लिए पात्र बताया गया और उन्हें रिहाई का आदेश दिया गया. जब इन बंदियों को इस आदेश की सूचना मिली तो उन्होंने पैरोल लेने से मना कर दिया.

इन 21 कैदियों में से 14 कैदियों ने बताया कि वह जेल में ज्यादा सुरक्षित है. इसलिए वह पैरोल नहीं लेंगे और जेल में ही रहेंगे. गौरतलब है कि ऐसा ही एक मामला महाराजगंज जेल से आया था जहां पर 2 कैदियों ने पैरों लेने से मना कर दिया था. जेलों में कोरोना का संक्रमण न फैले इसको लेकर शासन ने पैरोल और अंतरिम जमानत देने का आदेश दिया था. जिसके बाद यूपी के जेलों से काफी संख्या में कैदियों को छोड़ा गया.