प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में देश में मप्र सबसे आगे

शेयर करें:

अनुपपुर @ मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य बन गया है जहाँ सभी शासकीय जिला चिकित्सालयों में डायलिसिस के साथ साथ सभी पैथालॉजी जाँच की भी निःशुल्क सुविधा उपलब्ध है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के द्वितीय एवं तृतीय त्रैमास में गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य सेवाएँ देने में देश में सबसे आगे है।

यह जानकारी 3 नवम्बर को भोपाल में मंत्रालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभागों की समीक्षा बैठक में दी गई। मुख्यमंत्री ने विस्तार से प्रमुख योजनाओं की समीक्षा की। उन्होंने सभी जिला अस्पतालों को आदर्श अस्पताल के रूप में स्थापित करने के लिये सभी संभव प्रयास करने के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि सभी जिलों में उपलब्ध 41 हजार चिकित्सा उपकरणों के संचालन, प्रबंधन और रख-रखाव के लिये विशेष कदम उठाये गये हैं। उपकरणों के संचालन की शिकायतें दर्ज करवाने की व्यवस्था की गई ताकि उन्हें तत्काल सुधारा जा सके।

मुख्यमंत्री ने चिकित्सा शिक्षा विभाग की भविष्य की कार्य-योजनाओं की समीक्षा करते हुए नये मेडिकल कॉलेजों का निर्माण कार्य समय पर पूरा करने और उनमें चिकित्सीय एवं पैरामेडिकल स्टाफ की भर्ती प्रक्रिया शुरू करने और उपकरणों की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने चिकित्सकों के लिये व्यावहारिक सेवा शर्तें बनाने के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि दुर्गम क्षेत्रों में स्त्री रोग, निश्चेतना तथा शिशु रोग विशेषज्ञों की सेवाएँ देने के प्रयास किये जा रहे हैं। नये मेडिकल कॉलेजों में शैक्षणिक फैकल्टी की भर्ती प्रक्रिया जल्दी ही शुरू की जायेगी। मेडिकल कॉलेजों में शिक्षकों को आकर्षित करने के लिये समयबद्ध पदोन्नति, चिकित्सा भत्ता, अर्द्धवार्षिकी आयु बढ़ाने जैसे उपायों पर भी विचार किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री के प्रमुख निर्देश –
* राज्य बीमारी सहायता निधि को और ज्यादा प्रभावी और सरल बनायें।
* मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना और मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में बच्चों के ऑपरेशन के बाद नियमित देखभाल सुनिश्चित करें।
* जिला अस्पतालों को आदर्श अस्पताल बनाने के लिये हर संभव कदम उठायें।
* जिला अस्पतालों में उपलब्ध मेडिकल उपकरणों के प्रबंधन और रख-रखाव के लिये पुख्ता व्यवस्था करें।
* मुख्यमंत्री स्वास्थ्य शिविर योजना से सामाजिक कार्यकर्ताओं, संस्थाओं को जोड़ें।
* गंभीर कुपोषित बच्चों के घरों में स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ दस्तक दें। उनके स्वास्थ्य पर निगरानी रखें।
* गर्मी का मौसम शुरू होने से पहले महिला स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन पूरा करें।
* बच्चों के संपूर्ण टीकाकरण के सघन मिशन इंद्रधनुष के संचालन को प्रभावी बनायें। टीकाकरण का लक्ष्य हासिल करने के लिये निगरानी तंत्र को मजबूत करें।
* नये मेडिकल कॉलेजों के लिये चिकित्सकों की भर्ती की प्रक्रिया तत्काल शुरू करें।