प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया युगांडा की संसद को संबोधित

शेयर करें:

पहली बार किसी भारतीय प्रधानमंत्री ने युगांडा की संसद को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा- अफ्रीका का साथी होने पर भारत को गर्व है, प्रधानमंत्री ने युगांडा के राष्ट्रपति के साथ बिजनेस फोरम को संबोधित भी किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज युगांडा की संसद को संबोधित किया। और ऐसा करने वाले वो भारत के पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत और युगांडा का अतीत काफी कुछ मिलता जुलता है। दोनों देश काफी लंबे समय तक उपनिवेशवादी ताकतों के अधीन रहे हैं और दोनों देशों का एक लंबा स्‍वाधीनता संघर्ष का इतिहास रहा है। प्रधानमंत्री ने युगांडा में हो रहे विकास की सराहना की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने बांडुंग में अफ्रीका-एशियाई एकजुटता पर जोर दिया है। जिसमें दक्षिण अफ्रीका में नस्लभेद के विरोध में हमारा खड़ा होना प्रमुख था।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि भारत की शासन प्रणाली नीतियों से निर्देशित है और देश में करों में स्थिरता है। आज युगांडा की राजधानी कम्‍पाला में भारत-युगांडा व्‍यापारिक मंच की बैठक को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत में निवेश करना बड़ा आसान है। उन्‍होंने कहा कि दोनों देशों के बीच व्‍यापार की अनुकूल स्थितियों का पूरा फायदा उठाया जाना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि युगांडा का विकास भारत की प्राथमिकता में है। उन्होंने कहा कि युगांडा के युवाओं में क्षमता निर्माण और कौशल विकास होना चाहिए।