पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर उतारे जा सकेंगे लड़ाकू विमान, वायुसेना के लिए UP में दूसरा एयर स्ट्रिप तैयार

शेयर करें:


लखनऊ. पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर एयर स्ट्रिप तैयार किया जा रहा है. लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे के बाद प्रदेश का यह दूसरा एयर स्ट्रिप है जिसे बनाया जा रहा है. सेना की मदद के लिए पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर सुल्तानपुर के कूरेभार गांव के पास यह एयर स्ट्रिप तैयार किया जा रहा है.

राज्य के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा है कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का काम तेजी से पूरा किया जा रहा है. हम वायुसेना से अनुरोध करेंगे कि वो जल्द एयर स्ट्रिप पर विमान उतारकर इसका टेस्ट करें. उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की 3,300 मीटर लंबी एयर स्ट्रिप का काम पूरा हो गया है, यह दूसरी एयर स्ट्रिप है जो प्रदेश में एक्सप्रेस-वे पर बनाई गई है.

इस पर हर श्रेणी का विमान उतारा जा सकता है. उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे बनने से प्रदेश के पूर्वी छोर से पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, मध्य में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे, पश्चिम में यमुना एक्सप्रेस-वे से पूरा उत्तर प्रदेश पार कर सकेंगे.

एयर स्ट्रिप पर लड़ाकू विमानों की हो सकेगी इमरजेंसी लैंडिग

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के एयर स्ट्रिप पर लड़ाकू विमानों की इमरजेंसी लैंडिंग और टेक ऑफ कराने की सुविधा होगी. बता दें कि लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर मिराज 2000, जगुआर, सुखोई 30 और विशालकाय हरक्यूलियस जैसे मालवाहक विमान उतारे जा चुके हैं. भारतीय वायुसेना यमुना एक्सप्रेस-वे, आगरा एक्सप्रेस-वे के रनवे को परख चुकी है.

वायुसेना गाजियाबाद के हिंडन और आगरा एयरबेस के अलावा जरूरत पड़ने पर प्रदेश के तीनों एक्सप्रेस-वे के रनवे का उपयोग कर सकेगी. पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान को जवाब देने के लिए उत्तर प्रदेश के एयर स्ट्रिप सबसे मुफीद हैं.