मध्यप्रदेश की 230 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना कल, 16 सीटों पर टिकी बीजेपी-कांग्रेस की नजर

शेयर करें:

भोपाल। कल मध्यप्रदेश की 230 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना होगी। मतगणना के समय सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी। मतगणना कल सुबह आठ बजे शुरु होगी। हर विधानसभा क्षेत्र के मतों की गणना के लिए 14 टेबल लगाई जाएंगी।

पहले डाकमतपत्रों की गणना होगी, जिसके बाद ईवीएम मशीनों के मतों की गणना होगी। सभी जिलों के लिए मतगणना संबंधित जिला मुख्यालयों पर होगी। तगणना के लिए समूचे प्रदेश में मतगणना स्थलों के बाहर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

अनाधिकृत लोगों का मतगणना स्थल पर प्रवेश वर्जित रहेगा। प्रदेश में कुल पांच करोड़ चार लाख 95 हजार 251 मतदाता हैं। इस बार दो हजार 899 प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतरे थे। राज्य में कुल 75.05 फीसदी मतदान हुआ था।

16 सीटों पर टिकी बीजेपी-कांग्रेस की नजर
जनता की खमोशी, पंडितों की भविष्यवाणी, सट्टा बाजार और मीडिया द्वारा करवाए गए एक्जिट पोल अपने अपने मत रख रहे है। कोई बीजेपी की विदाई करवा रहा है तो कोई कांग्रेस की सरकार बनवाकर बदलाव की बात कर रहा है। इन आंकडों के बीच राजनैतिक दल उलझ कर रह गए है। किसी को पूर्णत स्पष्ट नही हो पा रहा है कि आखिर बहुमत किसको मिलेगा।

इसी बीच कांग्रेस और भाजपा की नजरें अब उन 16 सीटों आ टिकी हैं जो मध्य प्रदेश में सरकार बनाने का रास्ता तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी। मध्य प्रदेश की इन 16 सीटों में मालवा-निमाड़ क्षेत्र की मनावर, खारगौन, सेंधवा, सुसनेर, जवाड़ और बड़नगर, ग्वालियर (पूर्वी), सौंसर, नरयावली, होशंगाबाद, घोड़ा, डोंगरी, बैतूल, नेपानगर, बिजावर, बड़वारा और निवास सीटें शामिल है।

माना जाता रहा है कि अगर राजनैतिक पार्टियों ने इन पर जीत हासिल कर लेती है तो सरकार बनाने में कामयाब हो जाती है। इनमें 4 ऐसी विधानसभा सीटे खारगौन, नेपानगर, सेंधवा और निवास हैं जिनपर पिछले 37 सालों में जीत हासिल करने वाले दल ने सरकार बनाई है।

व ही तीन ऐसी विधानसभा मनावर, सौसर और नरयावली सीटे है जिनपर ३४ सालों में जीत हासिल करने वाली पार्टी सत्ता तक पहुंचने में कामयाब रही है। वही सात ऐसी विधानसभा बड़वारा, घोड़ा डोंगरी, बड़नगर, बैतूल, जवाड़ और होशंगाबाद सीटे है, जिनपर 29 सालों में जीत करने वाली पार्टी ने मध्यप्रदेश को जीता हो। इसे मिथक कहे या कुछ और..लेकिन सालों से इन सीटों का गणित ऐसे ही लगाया जाता रहा है।