कर्मियो की लापरवाही की सजा मिलेगी अधिकारियो को – कलेक्टर नायक

शेयर करें:

बड़वानी @ ट्रांसफार्मिंग इण्डिया के निर्धारित लक्ष्यों को हर हाल में गुणात्मकपूर्वक प्राप्त किया जाना है। इसके लिए नोडल अधिकारियो के निर्देशन में मैदानी अमले की नियुक्ति की गई है। नियुक्त 96 नोडल अधिकारी अपने क्षेत्र के लिये पूरी तरह से जिम्मेदार माने जायेंगे। अतः नियुक्त नोडल अधिकारी अपने पटवारी हल्के में नियुक्त समस्त विभागों के मैदानी अमले की समीक्षा, नियमित रूप से करेंगे। जिससे निर्धारित लक्ष्यो को प्राप्त किया जा सके। अगर लक्ष्य प्राप्त करने में कोई कमी रहेगी, तो इसके लिये मैदानी अमले के साथ-साथ नोडल अधिकारी भी जिम्मेदार माने जायेंगे।

शनिवार को जिला पंचायत के सभागृह में आयोजित ट्रांसफार्मिंग इण्डिया की बैठक में उक्त निर्देश कलेक्टर तेजस्वी एस नायक द्वारा दिये गये। बैठक के दौरान कलेक्टर ने नोडल अधिकारियो से उनके प्रभार के पटवारी हल्को में संचालित डिलेव्हरी पाईट की भी जानकारी प्राप्त की एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. व्ही के जैन को आदेशित किया कि नोडल अधिकारियो द्वारा उनके प्रभार के क्षेत्र में संचालित डिलेव्हरी पाईट में बताई गई कमी को एक सप्ताह में दूर करवाये। जिससे प्रत्येक नोडल अधिकारी अपने क्षेत्र के शत-प्रतिशत गर्भवती महिलाओं की डिलेव्हरी संस्थागत करा सके। इसके साथ ही कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के जिला अधिकारियो को स्पष्ट चेतावनी भी दी कि यदि किसी नोडल अधिकारी ने अपने प्रभार के स्वास्थ्य संस्था में किसी डाक्टर को अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने की शिकायत दर्ज करायेंगे तो दोषी पर कार्यवाही होगी ही वही स्वास्थ्य विभाग के जिला प्रमुख पर भी कार्यवाही प्रस्तावित की जायेगी।

बैठक के दौरान कलेक्टर ने समस्त नोडल अधिकारियो को भी आदेशित किया है कि वे अपने प्रभार के पटवारी हल्के में निर्मित प्रत्येक शासकीय संस्था का नियमित निरीक्षण करेंगे एवं देखेंगे कि संबंधित विभागो द्वारा आमजनों को उपलब्ध कराई जा रही योजनाओं, सुविधाओं का लाभ समय पर मिल रहा है।

बैठक में दिये गये निर्देश :-

  • समाज में महिला एवं बच्चे आज भी सबसे पीछे है। इसलिये ग्राम में संचालित महिला स्व-सहायता समूह को प्रत्येक कार्य से संलग्न किया किया जाये। जिससे कार्य में त्वरितता के साथ-साथ गुणवत्ता बनी रहे।
  • प्रत्येक नोडल अधिकारी की डायरी में उसके क्षेत्र की गर्भवती प्रत्येक महिला की समुचित जानकारी दर्ज होना चाहिये। जिससे प्रत्येक डिलेव्हरी की मानिटरिंग करते हुये संबंधित जच्चा-बच्चा को समुचित चिकित्सा एवं शासकीय योजनाओं का लाभ दिलवाया जा सके।
  • ट्रांसफार्मिंग इण्डिया की बाते घर-घर पहुचे, इसके लक्ष्यों को प्राप्त करने में समाज का प्रत्येक वासी अपना सहयोग प्रदान करें। इसके लिये इसे जन-जन का आन्दोलन बनाना होगा।
  • बच्चों का पढ़ने के प्रति रूझान बढ़ाने के लिए जिले के दो विकासखण्ड सेंधवा-पाटी में 558 स्थानो पर विशेष कक्षाऐ संचालित हो रही है। एनजीओ के माध्यम से हो रहे इस कार्य को प्रत्येक नोडल अधिकारी समझे और अपने क्षेत्र में जनसहयोग से इसी प्रकार के प्रयास करें।
  • जिले में संचालित ग्रीन कमाण्डो अभियान को प्रधानमंत्री ने भी सराह है। जिस प्रकार हमने पाटी के रोसर क्षेत्र में शत-प्रतिशत टीकाकरण करने में सफलता प्राप्त की है। उसी प्रकार की सफलता हमें सम्पूर्ण जिले के प्रत्येक क्षेत्र में, प्रत्येक योजना में प्राप्त करना है।
  • अगले दो माह में सौभाग्य योजना के तहत जिले के शत-प्रतिशत घरो एवं शासकीय संस्थाओं का विद्युतिकरण करना है। इसलिये स्कूलो में डिजिटल शिक्षा के प्रति भी सोंच व कार्य करने की आवश्यकता है।
  • अगले दो माह में सम्पूर्ण जिले को खुले में शौच मुक्त करवाना है। यह लक्ष्य प्राप्त करते ही हमारा जिला कई समस्याओं से स्वतः मुक्त हो जायेगा। इसलिये सभी इस लक्ष्य को प्राप्त करने में अपना पदीन दायित्व के साथ-साथ अपना सामाजिक दायित्व भी निभाये।
  • प्रत्येक नोडल स्तर पर एक बैंक सखी का चयन व प्रशिक्षण दिलवाया जाये। जिससे ऑनलाईन होने वाले कार्य कर यह सखी अपना आर्थिक उपार्जन तो कर ही सके। वही क्षेत्रवासियो को उनके घर के पास ही कियोस्क सेंटर का लाभ मिल सके।