अब घर बैठे कोरोना टेस्ट कर सकेंगे लोग, ICMR ने दी टेस्टिंग किट को मंजूरी

शेयर करें:

भारत में अब घर बैठे ही लोग कोरोना वायरस टेस्ट कर सकेंगे। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने इसके लिए एक रैपिड एंटीजन टेस्ट किट को मंजूरी दी है, जिसकी मदद से महामारी के लक्षण वाले लोग घर बैठकर अपना टेस्ट कर सकेंगे। इस टेस्ट किट का नाम कोविसेल्फ (पेथोकैच) कोविड-19 OTC एंटीजन LF डिवाइस है और इसे पुणे स्थित माइलैब ने तैयार किया है। ICMR ने घर पर टेस्टिंग के लिए गाइडलाइंस भी जारी की हैं।

किन लोगों के लिए है होम टेस्टिंग?
ICMR ने कहा है कि होम टेस्टिंग सिर्फ उनके लिए है, जिनमें कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण हैं या वो किसी लैब से पुष्टि हो चुके संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आए हैं। गाइडलाइंस में कहा गया है कि जिन लोगों में महामारी के लक्षण हैं, लेकिन इस टेस्ट में उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आती है तो उन्हें तुरंत RT-PCR टेस्ट करवाना होगा। कई बार कम वायरल लोड के कारण यह किट पॉजिटिव केस को मिस कर सकती है।

टेस्ट में पॉजीटिव आने पर होना होगा आइसोलेट
ICMR ने कहा है कि इस टेस्ट में जो लोग पॉजीटिव पाए जाएंगे, उन्हें कोरोना संंक्रमित समझा जाए और पुष्टि के लिए दूसरा टेस्ट कराने की जरूरत नहीं है। होम टेस्टिंग में पॉजीटिव पाए गए लोगों को आइसोलेट होने की सलाह दी गई है।

 

तरीका घर पर कैसे होगा टेस्ट?

कोविसेल्फ किट के जरिये टेस्ट करने का पूरा तरीका आप ऊपर दिए वीडियो में देख सकते हैं। टेस्ट करने से पहले आपको प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से माइलैब कोविसेल्फ ऐप डाउनलोड करनी होगी। इसी ऐप के जरिये आपको टेस्ट की रिपोर्ट मिलेगी। टेस्ट करने के बाद यूजर्स को टेस्ट स्ट्रिप की फोटो खींचकर ऐप में डाउनलोड करनी होगी। इसका डाटा ICMR के टेस्टिंग पोर्टल पर चला जाएगा। इस दौरान यूजर की निजता का पूरा ध्यान रखा जाएगा।

देश में अब तक हो चुके हैं 32.23 करोड़ टेस्ट
भारत में बीते दिन 20,55,010 कोरोना वायरस टेस्ट किए गए। यह लगातार दूसरा दिन था, जब 20 लाख से अधिक टेस्ट हुए हैं। महामारी की शुरुआत से अब तक देश में 32.23 करोड़ कोरोना वायरस टेस्ट किए जा चुके हैं।

देश में क्या है संक्रमण की स्थिति?
भारत में बीते दिन कोरोना के 2,76,110 नए मामले सामने आए और 3,874 मरीजों की मौत हुई। इसी के साथ देश में कुल संक्रमितों की संख्या 2,57,72,440 हो गई है। इनमें से 31,29,878 सक्रिय मामले हैं और 2,87,122 लोगों को इस खतरनाक वायरस के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी है। एक सरकारी पैनल ने अनुमान जताया है कि भारत में जुलाई तक कोरोना महामारी की दूसरी लहर का असर कम हो जाएगा।