लंबित प्रकरणों को लेकर कलेक्टर ने दिए ये निर्देश

शेयर करें:

जबलपुर । कलेक्टर कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में आज कलेक्टर सभागार में लंबित पत्रों की समीक्षा बैठक संपन्न हुई। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री रिजु बाफना अतिरिक्त कलेक्टर संदीप जीआर, हर्ष दीक्षित, राजेश बाथम सहित सभी जिला अधिकारी उपस्थित थे।

लंबित पत्रों की समीक्षा के दौरान कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि जितने भी लंबित प्रकरण हैं उनके निराकरण प्राथमिकता से समय सीमा में करें। इस दौरान उन्होंने समाधान ऑनलाइन के विषयों पर एक एक कर चर्चा कर संबंधित अधिकारियों से कहा कि प्रकरण को संतुष्टिपूर्ण तरीके निराकरण करें।

बैठक में सीएम हेल्पलाइन के 300 दिनों से अधिक के प्रकरणो के साथ कहा कि सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों को एल वन स्तर पर ही निराकरण करें। इसके साथ ही जनप्रतिनिधियों व शासन से प्राप्त पत्रों का जवाब भी समय पर दें। बैठक में अंतर्विभागीय विषयों पर भी चर्चा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

लंबित पत्रों के समीक्षा के दौरान मुख्य रूप से बिजली बिल में गड़बड़ी जांच, निजी भूमि पर अतिक्रमण रोकने, प्राकृतिक प्रकोप या आपदा में सहायता, पुराने लंबित भुगतान को तुरंत करने, गौशालाओं के बेहतर संचालन व आदर्श गौशाला बनाने, नाला के गंदा पानी नदी में जाने से रोकने, वन अधिकार से जुड़े प्रकरणों के निराकरण, अवमानना के प्रकरणों को विशेष रूप से देखने, पूरक पोषण आहार तथा पोषण आहार समय पर देने के साथ ही कुपोषण मुक्ति के लिए विशेष अभियान के तहत कार्य करने, भू-माफियाओं व मिलावटी के विरुद्ध त्वरित कार्यवाही करने व गेहूं उपार्जन की तैयारियों पर चर्चा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये। इस दौरान कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि समस्याओं के निराकरण करने के लिये अधिकारी कर्मचारियों के उत्तरदायित्व निर्धारित करें। उन्होंने निर्देश दिये कि कोरोना के लेकर सतर्क रहें, सेंपलिंग लेते रहें और जो फीवर क्लीनिक चल रहे हैं उन्हें बंद ना करें।

समीक्षा के दौरान कलेक्टर श्री शर्मा ने उपार्जन के सत्यापन न करने वाले तहसीलदारों को तथा समय पर प्रकरणों का निराकरण न होने पर मेडिकल यूनिवर्सिटी के प्रभारी अधिकारी को कारण बताओ नोटिस देने के निर्देश दिये। वही समय पर संबंधित को भुगतान न करने पर जीएम डीआईसी के निलंबन के प्रस्ताव  उच्च अधिकारियों को देने के निर्देश भी दिये।